बैकुंठपुर

--Advertisement--

आनी के कच्चे रास्ते पर पड़े बड़े पत्थरों से हादसे

छिंदडांड कलेक्टोरेट कार्यालय के पीछे लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम पंचायत आनी स्थित है। पंचायत को मुख्य मार्ग...

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 02:00 AM IST
आनी के कच्चे रास्ते पर पड़े बड़े पत्थरों से हादसे
छिंदडांड कलेक्टोरेट कार्यालय के पीछे लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम पंचायत आनी स्थित है। पंचायत को मुख्य मार्ग से जोड़ने पुल का निर्माण तो पूरा कर दिया गया लेकिन सड़क अब भी अधूरी है।

जिससे आवागमन में परेशानी होती है। सड़क पर बारिश के दिनों में वाहन और पैदल चलना मुश्किल हो रहा है, क्योंकि मिटटी गीली होने के कारण कई बार लोग फिसलकर गिर जाते है। पीडब्लूडी विभाग ने छिंदडांड कलेक्टारेट परिसर से आनी गांव पहंुचने के लिए पुल का निर्माण कराया है। जिससे गांव-गांव के लोग सीधे मुख्य मार्ग से जुड़े सकंे लेकिन सड़क का निर्माण कार्य अधूरा छोड़ दिया गया। बता दें कि भास्कर में समाचार प्रकाशित करने के बाद दोबारा काम शुरू करने सड़क किनारे मुरम डाला गया था और यह बताया गया था कि जल्द ही डामरीकरण कर सड़क पूरा कर दिया जाएगा। लगभग 1 किलोमीटर से कम लम्बाई की सड़क में बड़े-बड़े बोल्डर और गिटटी उखड़े हुए है। हालांकि वहां मिटटी मुरम डाले साल बीतने को है। आए दिन इस सड़क में दुर्घटनाएं हो रही हैं। वाहन चालक धूल, बोल्डर और गड्‌ढ़ों के कारण दुर्घटनास्त हो रहे हैं।

छिंदडांड कलेक्टोरेट कार्यालय के पीछे लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर है ग्राम पंचायत आनी

ग्रामीणों ने बताया कि रात में अधिक परेशानी होती

ग्रामीणों ने बताया कि परेशानी रात में अधिक होती है। जब किसी मरीज को इलाज के लिए जिला हाॅस्पिटल पहंुचाना होता है। क्योंकि इस सड़क में रोड लाइट की व्यवस्था नहीं दी गई है। यही कारण है कि रात में बाइक और स्कूटी से तो किसी प्रकार आवागमन हो जाता है। पर साइकिल सवार गिरते पड़ते अपने गंतब्य तक पहंुचते हंै। इस सड़क से गांव की पूरी आबादी साप्ताहिक बाजार लगाने के लिए छिंदडांड पहुंचती है। इसके साथ ही आनी के चारों ओर के अन्य दर्जनभर गावं के ग्रामीण मुख्यालय में आते हैं। छात्र-छात्राएं स्कूल काॅलेज आते हैं।

X
आनी के कच्चे रास्ते पर पड़े बड़े पत्थरों से हादसे
Click to listen..