--Advertisement--

कल से शुरू होगा पुरुषोत्तम मास, नहीं होगें मांगलिक कार्य

बैकुण्ठपुर। अधिक मास जिसे मलमास भी कहा जाता है। इस वर्ष 16 मई से शुरू होकर 13 जून तक चलेगा। वैदिक मान्यता के अनुसार...

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 02:00 AM IST
बैकुण्ठपुर। अधिक मास जिसे मलमास भी कहा जाता है। इस वर्ष 16 मई से शुरू होकर 13 जून तक चलेगा। वैदिक मान्यता के अनुसार सूर्य और चंद्र का अंतर पाटने अधिकमास कल 16 मई से शुरू हो रहा है। इस दौरान मांगलिक कार्य नहीं होंगे।

इस माह 12 मई को मांगलिक कार्याे का आखिरी मुहूर्त था अब मांगलिक कार्य एक माह बाद 19 जून से शुरू होगें। अधिकमास को मलमास और पुरुषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाता है। ज्योतिषाचार्य पं.नित्यानंद दुबे के अनुसार हर तीन वर्ष में एक बार अतिरिक्त माह आता है। वैदिक परंपरा के अनुसार हिंदू धर्म में इस माह का विशेष महत्व है। इस मास में पूजा-पाठ, भागवत कथा, व्रत-उपवास, जप, भजन-कीर्तन और योग आदि अधिक होते हैं।

इसलिए आता है मलमास

हर तीन साल में अधिकमास आता है। वशिष्ठ सिद्धांत के अनुसार ज्योतिष सूर्य मास और चंद्र मास की गणना के अनुसार चलता है। अधिकमास चंद्र वर्ष का एक अतिरिक्त भाग है, जो हर 32 माह, 16 दिन और 8 घटी के अंतर से आता है। इसका प्राकट्य सूर्य वर्ष और चंद्र वर्ष के बीच अंतर का संतुलन बनाए रखने के लिए होता है। भारतीय गणना पद्धति के अनुसार प्रत्येक सूर्य वर्ष 365 दिन और करीब 6 घंटे का होता है, वहीं चंद्र वर्ष 354 दिनों का होता है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..