बैकुंठपुर

  • Hindi News
  • Chhattisgarh News
  • Baikunthpur
  • जनकपुर बस स्टैंड पर यात्रियों को नहीं मिलती सुविधाएं, जिम्मेदारों का इस ओर ध्यान नहीं
--Advertisement--

जनकपुर बस स्टैंड पर यात्रियों को नहीं मिलती सुविधाएं, जिम्मेदारों का इस ओर ध्यान नहीं

भास्कर संवाददाता| बैकुंठपुर प्रदेश की प्रथम विधानसभा का दर्जा प्राप्त भरतपुर सोनहत के मुख्यालय जनकपुर में आम...

Dainik Bhaskar

Apr 27, 2018, 03:10 AM IST
जनकपुर बस स्टैंड पर यात्रियों को नहीं मिलती सुविधाएं, जिम्मेदारों का इस ओर ध्यान नहीं
भास्कर संवाददाता| बैकुंठपुर

प्रदेश की प्रथम विधानसभा का दर्जा प्राप्त भरतपुर सोनहत के मुख्यालय जनकपुर में आम आदमी मूलभूत सुविधाओं के लिए मोहताज है। यहां आवागमन के लिये एकमात्र साधन बस ही है। जिसके लिए जनकपुर में बस स्टैण्ड बनाया गया है लेकिन न तो वहां यात्रियों के बैठने के लिए पर्याप्त व्यवस्था है और न ही सड़कें व्यवस्थित हैं। जिससे आम आदमी को होने वाली असुविधा का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

आने-जाने का नहीं है साधन: जनकपुर विकासखंड में जाने आने के लिए एक मात्र बस ही सहारा है। इसके अलावा अन्य कोई व्यवस्था नहीं है इसके बावजूद आज तक इस दिशा में कोई पहल नहीं की गई जिससे आम आदमी सुव्यवस्थित तरीके से आवागमन कर सके। यहां कहने को तो बस स्टॅैंड है लेकिन बरसात का मौसम आते ही बस स्टैंड पूरी तरह कीचड़ से सराबोर हो जाता है जिससे लोगों को काफी असुविधा होती है।

बस स्टैंड पर सुविधाएं बढ़ने के लिए जनप्रतिनिधियों ने अब तक नहीं की कोई पहल

बस स्टैंड पर सुविधाएं नहीं होने से रोजाना सैकड़ों यात्री होते हैं परेशन।

यात्रियों को होती है दिक्कत: बस स्टैंड में अभी कुछ महीने पहले ही जो सड़क बनाई गई है उसके अगल बगल जल भराव होने से लोगों को परेशानी होती है जिससे बस स्टैंड तक पहुंचना काफी दिक्कत भरा होता है। बरसात के समय तो यहां से गुजरने की कल्पना भी नहीं की जा सकती, ऐसे में आदमी बस स्टैंड जाए तो जाए कैसे। इस संबंध में कई बार क्षेत्र के लोगों ने जिले के आलाधिकारियों का ध्यानाकर्षण कराया लेकिन इस दिशा में कभी कोई पहल नहीं की गई।

शाम ढलते ही छा जाता है अंधेरा: बस स्टैण्ड में सबसे बड़ी समस्या यात्रियों की सुरक्षा को लेकर होती है क्योंकि शाम ढलते ही यहां अंधेरे का साम्राज्य हो जाता है ऐसे में यात्री यहां रुकना ही नहीं चाहता। वहीं महिलाओं के लिए प्रसाधन कक्ष न होने से महिला यात्रियों को भी काफी परेशानी उठानी पड़ती है। कुल मिलाकर देखा जाए तो बस स्टैंड नाम मात्र का बस स्टैंड है यहां आम आदमी की सुविधाओं का कोई खयाल नहीं रखा गया है। इससे लोग परेशान होते हैं।

साफ सफाई का अभाव

बस स्टैंड में एक सबसे बड़ी दिक्कत साफ सफाई की कमी भी है। समूचे परिसर में चारों ओर गंदगी का साम्राज्य कभी भी देखा जा सकता है जिससे यात्रियों को काफी परेशानी होती है। खासकर वर्षाकाल में बस स्टैंड में जमा गंदगी से उठने वाली दुर्गंध काफी पीड़ादायक होती है। वहीं बस स्टैंड में आवारा पशुओं का जमघट लगा रहता है जिससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। चूंकि सरकारी बसों का संचालन एक दशक से बंद हो चुका है ऐसे में यहां से सिर्फ प्राइवेट बसें ही गुजरती हैं जिसके चलते बस स्टैण्ड के रख रखाव में कोई ध्यान नहीं दिया।

X
जनकपुर बस स्टैंड पर यात्रियों को नहीं मिलती सुविधाएं, जिम्मेदारों का इस ओर ध्यान नहीं
Click to listen..