Hindi News »Chhatisgarh »Baikunthpur» हाजिरी के लिए बांटे गए कई टैबलेट हो गए खराब

हाजिरी के लिए बांटे गए कई टैबलेट हो गए खराब

भास्कर संवाददाता| बैकुंठपुर जिले के शासकीय स्कूलों में शिक्षकों की नियमित व समयानुसार उपस्थिति को लेकर टेबलेट...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 24, 2018, 03:15 AM IST

भास्कर संवाददाता| बैकुंठपुर

जिले के शासकीय स्कूलों में शिक्षकों की नियमित व समयानुसार उपस्थिति को लेकर टेबलेट का वितरण किया गया है। लेकिन अभी भी ऐसे कई स्कूल हैं, जहां टेबलेट नहीं पहुंचे हैं और जहां पहुंच भी गए हैं। वहां उनका संधारण उचित तरीके से नहीं किया गया है। इसके चलते योजना के शुरुआती दौर में ही इसके सफल क्रियान्वयन को लेकर सवाल उठने लगे हैं। योजना के क्रियान्वन के लिए प्राइमरी, मिडिल, हाईस्कूल एवं हायर सेकंडरी स्कूलों में टेबलेट का वितरण किया गया है। वहीं बच्चों और शिक्षकों की उपस्थित दर्ज कराने को लेकर चिप से स्कूलों में बायोमेट्रीक डिवाइस भी इस्टॉल किए गए हैं। इस योजना का उद्देश्य सरकारी स्कूलों के काम-काज में पारदर्शिता लाने के साथ-साथ पेपरलेस वर्क को बढ़ावा देना है। ताकि शिक्षक पूरा फोकस पढ़ाई पर कर सकंे। जिले में 956 प्राथमिक, 417 माध्यमिक, 69 हाई स्कूल एवं 68 हायर सेकंडरी मिलाकर 1509 स्कूल है। इनमें से अभी तक 1463 स्कूलों में टेबलेट बांटे जा चुके हैं। इस योजना का क्रियान्वयन सफलता पूर्वक हो इसके लिए काफी दावे किए जा रहे हैं। जबकि कई क्षेत्र हैं जहां अभी भी नेटवर्क नहीं हैं ऐसे मेें यहां टेबलेट कैसे काम करेेंगे । पूर्व में ब्लॉक में 49 शालाओं में टेबलेट नहीं थे, जबकि 54 में खराब हो गये थे। 10 स्कूलों में संचालन किया जा रहा है। टेबलेट वितरण की गाइड लाइन न होने के कारण विसंगतियां सामने आई हैं। हैंग होना, थंब नहीं लेना हंै। ऑफलाइन मोड में ही शिक्षकों को उपस्थिति दर्शाने के लिए थंब लगाना पड़ता है। नेटवर्क नहीं होने के कारण कई स्कूलों में ये काम नहीं करता है। वहीं अधिकांश स्कूलों में यह बात भी सामने आई है कि सिर्फ शिक्षकों के ही विवरण टेबलेट में डाले गए हैं, बाकी स्टॉफ के आने-जाने का कोई समय नहीं है। इससे शिक्षकों में नाराजगी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Baikunthpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×