--Advertisement--

सोमवार को 2 से पौने 3 रु. किलो तक बिका टमाटर

किसानों ने रविवार को थोक व्यापारियों द्वारा टमाटर का भाव 50 पैसे प्रति किलो करने पर बाजार में ही टमाटर फेंक दिया था...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:30 AM IST
किसानों ने रविवार को थोक व्यापारियों द्वारा टमाटर का भाव 50 पैसे प्रति किलो करने पर बाजार में ही टमाटर फेंक दिया था और थोक बाजार में टमाटर नहीं बेचने की चेतावनी दी थी। इसके बाद सोमवार को थोक व्यापारियों ने टमाटर को 2 से पौने तीन रुपए में खरीदा। इससे किसान खुश दिखाई दिए। किसानों ने कहा टमाटर की खेती में लागत अधिक लग रही है, थोक व्यापारी रेट को और बढ़ाएं। दाम कम होने से मजदूरों को मजदूरी देना तो वाहनों का खर्च भी वसूल नहीं हो पा रहा है। जब तक थोक में चार रुपए किलो के रेट में टमाटर नहीं बिक जाता, तब तक उन्हें टमाटर की खेती का उचित फायदा नहीं मिलेगा।

किसानों ने कहा आने वाले दिनों में इस मामले में थोक व्यापारियों से चर्चा की जाएगी। इधर थोक व्यापारियों ने कहा कि मंडी में सब्जियों का रेट उनकी आवक पर निर्भर करता है। टमाटर की आवक पिछले कुछ दिनों से बड़े पैमाने पर हो रही है। लोग अच्छा टमाटर 5 रुपए में आसानी से खरीद रहे हैं तो खराब टमाटर तीन रुपए में क्यों खरीदेंगे। इसे देखते हुए टमाटर का दाम तय किया गया था। थाेक व्यापारी पीके पांडे ने कहा कि जहां रविवार को टमाटर का दाम 50 पैसे प्रति किलो था, वहीं अब यह बढ़कर 2 से पौने तीन रुपए तक हो गया है। आने वाले दिनों में आवक को देखते हुए टमाटर के दाम बढ़ और कम हो सकते हैं।

नाराज किसानों ने 25 क्विंटल टमाटर बेचा

रविवार को जहां किसान दाम सही नहीं मिलने से नाराज हाेकर 15 क्विंटल टमाटर मंडी में फेंक कर चले गए थे, वहीं सोमवार को किसानों ने 25 क्विंटल टमाटर बेचा। टमाटर बेचने सब्जी मंडी पहुंचे कोलचूर के किसान गुड्डू ठाकुर ने कहा कि उन्होंने सोमवार को 700 किलो टमाटर बेचा है। टमाटर की क्वालिटी अच्छी होने से पौने तीन रुपए प्रति किलो के रेट में बिका है। लागत को देखते हुए यह रेट अब भी कम है।

चिल्हर में 5 से 7 रुपए किलो बिका टमाटर

थोक बाजार में जहां किसानों ने थोक व्यापरियों को 2 से पौने तीन रुपए में टमाटर बेचा, वहीं सब्जी मार्केट में इसकी कीमत 5 से सात रुपए प्रतिकिलो थी। व्यापारियों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से टमाटर की खपत शहर में बढ़ गई है। गीदम, दंतेवाड़ा और बीजापुर में काफी कम टमाटर भेजा जा रहा है।