--Advertisement--

आदर्श विवाह के नौ जोड़ों को टारगेट में किया शामिल

बालोद. साहू समाज के आदर्श विवाह में इन जोड़ों की हुई शादी। बालोद|महिला बाल विकास विभाग अपने स्तर पर गरीब बेटियों...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:00 AM IST
बालोद. साहू समाज के आदर्श विवाह में इन जोड़ों की हुई शादी।

बालोद|महिला बाल विकास विभाग अपने स्तर पर गरीब बेटियों की शादी करवाने का टारगेट पूरा नहीं कर पा रहा। तो अब वह सामाजिक आयोजनों का सहारा लेने लगी है। विभाग ने अधिकृत रूप से डौंडी में पिछले हफ्ते 41 जोड़ों की शादी कराई थी। इन्हें शासन की ओर से 120 जोड़ों की शादी करवाने का टारगेट मिला है। लेकिन वे इसे पूरा नहीं कर पा रहे हैं।

शुक्रवार को साहू समाज द्वारा ग्राम तरौद में आयोजित तहसील स्तरीय कर्मा जयंती व आदर्श विवाह कार्यक्रम में 10 जोड़ों की शादी हुई। इसमें भी विभाग में हस्तक्षेप कर 9 जोड़ों को योजना का लाभ देकर अपने टारगेट में शामिल कर लिया। गुरुर और गुंडरदेही ब्लॉक में भी छुटपुट हुए सामाजिक आयोजन के दौरान शादियों को अपने में शामिल कर अब विभाग 68 शादी करवाने का दावा कर रहा है। जबकि हकीकत कुछ और है। शुक्रवार को ग्राम तरौद में हुए सामाजिक शादी को अफसरों ने सरकारी शादी का रूप दे दिया। सिर्फ एक जोड़ा जो गरीबी रेखा की श्रेणी में नहीं था इसलिए उसे विभाग ने अपने हिस्से में नहीं गिना।

जिला महिला बाल विकास विभाग अधिकारी सीएस मिश्रा ने कहा कि जिले में गरीबी रेखा के नीचे होने के बाद भी कई परिवार सरकारी आयोजन में शादी नहीं करना चाहते। वे अपनी बेटियों का धूमधाम से शादी करना चाहते हैं। इस कारण जिले में पर्याप्त जोड़े नहीं मिल पाते। हम प्रयास कर रहे थे लेकिन टारगेट पूरा नहीं हो पाया। इसलिए सामाजिक स्तर के आयोजनों में भी शासन की योजना से सहयोग कर शादी करवाई जा रही है। मुख्य अतिथि दुर्ग सांसद ताम्रध्वज साहू ने कहा कि इस तरह के आदर्श विवाह से फिजूलखर्ची रूकती है। साथ ही गरीब परिवारों के लिए एक बड़ी राहत हो जाती है।