• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Balod
  • शिक्षा का माध्यम किताब ही नहीं कला की अभिव्यक्ति भी है: अरुण
--Advertisement--

शिक्षा का माध्यम किताब ही नहीं कला की अभिव्यक्ति भी है: अरुण

बालोद| शासकीय हाईस्कूल आमापारा में बुधवार को वार्षिकोत्सव व प्रेरणा कला उत्सव मनाया गया। जिसमें बच्चों ने...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:00 AM IST
शिक्षा का माध्यम किताब ही नहीं कला की अभिव्यक्ति भी है: अरुण
बालोद| शासकीय हाईस्कूल आमापारा में बुधवार को वार्षिकोत्सव व प्रेरणा कला उत्सव मनाया गया। जिसमें बच्चों ने हैडीक्राफ्ट, ग्रीटिंग, बाल पेंटिग, पोस्टर चार्ट, कक्ष सजावट से प्रतिभा दिखाई। शैक्षणिक सांस्कृतिक गतिविधियों का प्रतिबिंब शालेय पत्रिका सर्जना कहानी उत्सव संकलन एवं इतिहास लेखन फाइल का विमोचन किया गया।

प्राचार्य अरुण कुमार साहू ने कहा कि शिक्षा का माध्यम केवल किताब ही नहीं, बल्कि हमारी कलात्मक अभिव्यक्ति हमारे ज्ञान कौशल को सहज रूप में में प्रकट करती है। स्कूल में में सुरभि सीसी आरटी क्लब, संवाद मीडिया क्लब, ग्रीनलीफ इको क्लब संचालित है। डीईओ बीआर ध्रुव ने कहा स्कूल की कई गतिविधि से हम बच्चों को सही दिशा दे सकते हैं। इन्ही काम से जिले में इस स्कूल की अलग पहचान बनी है। प्रतिभाशाली छात्रा चेल्सी भारती, मानसी यादव, गीतांजलि, स्वाति, मेनका, दिव्या, दामिनी, ज्योति, सोनिया का सम्मान हुआ।

X
शिक्षा का माध्यम किताब ही नहीं कला की अभिव्यक्ति भी है: अरुण
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..