क्रोध का त्याग कर ही लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं: हेमंत मुनि

Balod News - आचार्यश्री 1008 रामलाल मसा, हर्षित मुनि मसा, धीरज मुनि मसा आदि ठाना 3 का वर्षावास चतुर्मास के लिए बालोद में मंगल...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 06:45 AM IST
Balod News - chhattisgarh news only by sacrificing anger can the goal reach hemant muni
आचार्यश्री 1008 रामलाल मसा, हर्षित मुनि मसा, धीरज मुनि मसा आदि ठाना 3 का वर्षावास चतुर्मास के लिए बालोद में मंगल प्रवेश हुआ। जैन धर्म की परंपरा अनुसार तीन-चार माह में साधु संत एक ही स्थान में रहकर धर्म आराधना में लीन रहते हैं। शेष 8 माह का समय विचरण का रहता है।

मंगल प्रवेश के बाद समता भवन में हेमंत मुनि मसा ने कहा कि प्रवेश व स्वागत हमारा नहीं होता है। साधु, गुरु के सानिध्य में लोग पाप त्याग देते है। संत महापुरुष चतुर्मास करने प्रभु की आज्ञा अनुसार एक स्थान पर ठहरते हैं। गुरु का ईशारा इन चातुर्मास में रह गए काय जीवो की प्रतिपालन, रक्षा करना है। जिनवाणी को भीतर में स्थान देना है, चतुर्मास काल में विभिन्न प्रकार के त्याग, तप व आयामों से जुड़ना हैं। हमें अपना मापदंड तय करके लक्ष्य तक पहुंचना है। साथ ही संकल्प करें कि क्रोध का हमेशा के लिए त्याग करुंगा। मुनिश्री ने कहा कि साधु की साधना में एक मुख्य प्रवृत्ति होती है भिक्षाचार्य की, जो काफी कठिन है। हम समझते हैं कि घरों में भिक्षा लेने गए और ले आए। लेकिन हमें 6 काय जीवो की रक्षा करना है। अाचार्य नानेश व वर्तमान आचार्य रामेश में जीता जागता आगम मिलेगा। इन की क्रियाएं बेजोड़ व कथनी करनी एक समान है। ये कहते कम व करते ज्यादा है। आज का मानव पाश्चात्य संस्कृति में जीने लगा गया है। जिससे वह धर्म से विमुख हो रहा है।

मनुष्य का शत्रु है आलस्य

हर्षित मुनि मसा ने कहा कि हमारी ज्ञान प्राप्ति में बाधक तत्व आलस्य व प्रमाद है। आलस्य शरीर से जुड़ा है जबकि प्रमाद आत्मा की विशुद्धि है। व्यक्ति को धार्मिक कार्यों में बहुत ही आलस्य आता है। यदि रुचि का विषय लाभकारी है तो वह अपने शारीरिक थकान गायब हो जाती है। आप व्यक्ति मानसिकता से ग्रसित होकर बीमार हैं। हमारे अवचेतन मन में बहुत ही शक्ति है। मनुष्य का शत्रु आलस्य है, पुरुषार्थ कर मानव अपने जीवन को सफल बना सकता है। हमें हमारे भीतर में रह रहे शत्रु की पहचान करना है, तभी जीत पाएंगे। सभा का संचालन महेंद्र नाहर ने किया। प्रदीप चोपड़ा ने बताया कि प्रवचन सुबह 8.30 बजे से समता में हर रोज होगा।

X
Balod News - chhattisgarh news only by sacrificing anger can the goal reach hemant muni
COMMENT