जम्मू कश्मीर में बर्फबारी, बालोद में गिरेगा पारा

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 02:05 AM IST

Balod News - जम्मू कश्मीर में शनिवार और रविवार को बर्फबारी हुई है। जिसके चलते बालोद शहर सहित जिले भर में सोमवार से बुधवार तक...

Balod News - chhattisgarh news snowfall in jammu and kashmir
जम्मू कश्मीर में शनिवार और रविवार को बर्फबारी हुई है। जिसके चलते बालोद शहर सहित जिले भर में सोमवार से बुधवार तक ठंडी हवा आएगी। रात का तापमान तीन डिग्री गिरकर 10 पर व दिन का तापमान दो डिग्री कम होकर 26 डिग्री पर पहुंचने के संकेत हैं। हालांकि कड़कड़ाती ठंड नहीं पड़ेगी। रविवार को अधिकतम तापमान 28 और न्यूनतम 14 डिग्री रहा।

रायपुर के मौसम वैज्ञानिक पीएल देवांगन ने बताया कि जब भी जम्मू कश्मीर में बर्फ गिरती है तब बालोद जिले में ठंडी हवा आती है। जिससे तापमान गिरता है और ठंड बढ़ती है। हालांकि इसका असर तीन दिन तक ही रहेगा फिर ठंड कम होगी। मकर संक्रांति निकल जाएगी।

बालोद. रविवार को सुबह 6.42 बजे सूर्योदय के बाद भी ठंड।

जनवरी के पहले पखवाड़े में सामान्य ठंड रही

उत्तर भारत के कई इलाकों में जमकर बर्फबारी की वजह से वहां कड़ाके की ठंड पड़ रही है। वहां पारा लगातार कम हो रहा है इसके उलट शहर के तापमान में उतार-चढ़ाव हो रहा है। ठंड कम हो गई है। जनवरी का पहला पखवाड़ा सामान्य ठंड में बीत रहा है। मकर संक्रांति की वजह से ठंड कम होने लगेगी। उत्तर से ठंडी हवा का एक-दो स्पैल आने के बाद मौसम में बदलाव होगा। उसके बाद ठंड फिर बढ़ सकती है, लेकिन इसकी संभावना अगले तीन-चार दिनों ही है।

मकर संक्रांति से पहले ठंड पर यहां ऐसी स्थिति नहीं

मौसम वैज्ञानिक देवांगन का कहना है कि दिसंबर से लेकर जनवरी में मकर संक्रांति से पहले तक ठंड ज्यादा रहती है। पिछले एक दशक में 2011 और एक-दो और साल ही ऐसे रहेे हैं, जिनमें संक्रांति से पहले बालोद में रात का तापमान 14 डिग्री के करीब पहुंचा है। हालांकि जनवरी के पूरे महीने में रात का तापमान 15-16 डिग्री तक भी पहुंचा है, लेकिन दूसरे हफ्ते में ऐसी स्थिति कम ही रही है। मध्य और दक्षिण भारत में ठंड का सीधा असर उत्तरी छत्तीसगढ़ से आने वाली हवा पर निर्भर करता है।

पहाड़ों व घने जंगलों वाले इलाके में सर्दी ज्यादा

मकर संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होने के साथ ही ठंड कम होने लगेगी और दिन में सूरज की तपिश बढ़ने लगेगी। सूर्य के दक्षिणायन वाली स्थिति होने पर पृथ्वी से दूरी बढ़ जाती है। इससे सूर्य की किरणों की तपिश कम रहती है। पिछले कई साल के मौसम पर गौर करें तो मकर संक्रांति से ठंड कम होेने लगती है लेकिन पहाड़ और घने जंगल वाले उत्तर और दक्षिणी छत्तीसगढ़ में जनवरी और फरवरी तक ठंड रहती है। सुबह और रात में ठंड महसूस होती है।

X
Balod News - chhattisgarh news snowfall in jammu and kashmir
COMMENT