• Home
  • Chhattisgarh News
  • Balod News
  • ऑनलाइन कोर्ट से जुड़कर अब बच्चे कर सकेंगे उनके साथ होने वाले अपराधों की शिकायत
--Advertisement--

ऑनलाइन कोर्ट से जुड़कर अब बच्चे कर सकेंगे उनके साथ होने वाले अपराधों की शिकायत

जिले के पांच सरकारी स्कूलों में विधिक साक्षरता क्लब का गठन किया गया है जन जागृति उमावि ग्राम कोबा, बालक उमावि...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 02:05 AM IST
जिले के पांच सरकारी स्कूलों में विधिक साक्षरता क्लब का गठन किया गया है जन जागृति उमावि ग्राम कोबा, बालक उमावि गुरुर, उमावि देवरी, उमावि कन्नेवाड़ा (करहीभदर) और बालक उमावि डौंडी में बने क्लब में कंप्यूटर स्थापित कर स्कूल को कोर्ट से जोड़ दिया गया हैै। अब बच्चे ऑनलाइन कोर्ट से जुड़कर कोई भी शिकायत या समाधान प्राप्त कर सकते हैं।

क्लब में नौवीं से बारहवीं तक के छात्रों को कानूनी विषयों की जानकारी दी जाएगी। इस अव‌सर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव मनीषा ठाकुर ने बताया कि राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण (नालसा) के निर्देश पर छात्रों को उनके अधिकार तथा उनसे संबंधित कानून की जानकारी देने के लिए क्लब बनाया गया है।

बालोद. शार्ट फिल्म से कानून की जानकारी लेते लोग।

कोर्ट परिसर में लगाया गया एलईडी, लोगों को मिलेगी शार्ट फिल्मों से कानून की जानकारी

मंगलवार को जिला एवं सत्र न्यायालय परिसर में भी एक एलईडी लगाया गया। इस एलईडी में राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली से आए कानून संबंधी लघु चलचित्र (शार्ट फिल्म) का प्रदर्शन किया जाएगा। इसके साथ ही मौलिक कर्तव्यों, महिला उत्पीड़न, महिलाओं से संबंधित अधिकार, महिलाओं के कानूनी अधिकार भरण-पोषण, घरेलू हिंसा से महिलाओं की सुरक्षा, दहेज निवारण कानून, छग टोनही प्रताड़ना के बारे में जानकारी दी जाएगी। मौके पर इसे दिखाया भी गया।

स्कूली बच्चों व शिक्षकों को जागरूक किया जा रहा

कानूनी जागरूकता के तहत कानून से संबंधित विषयों की जानकारी बच्चों की दी जाएगी। इसमें बच्चों व शिक्षकों को स्कूल में ही भारतीय संविधान में वर्णित तथ्यों के साथ मौलिक अधिकार, मौलिक कर्तव्य, बाल विवाह, बाल श्रम, रोड सेफ्टी, मानवाधिकार, सूचना का अधिकार, अपराधिक कानून, किशोर अधिनियम की जानकारी देंगे।

बच्चों की सुरक्षा के लिहाज से अच्छी पहल: रमाशंकर

जिला जज व प्राधिकरण के अध्यक्ष रमाशंकर प्रसाद ने कहा कि इस क्लब के डिजिटल होने से कम उम्र में ही बच्चों को कानून की जानकारी प्राप्त हो जाएगी। यह बच्चों के भविष्य को सुरक्षित रखने में अच्छी पहल साबित होगी। छात्र अपने ही विद्यालय के अन्य छात्रों को इसकी जानकारी देंगे।