Hindi News »Chhatisgarh »Balod» डायरिया के 7400, मलेरिया के 216 मरीज

डायरिया के 7400, मलेरिया के 216 मरीज

जिले में जनवरी से जुलाई तक डायरिया के 7 हजार 400 और मलेरिया के 216 मरीज मिलने के बाद आखिरकार स्वास्थ्य विभाग ने जागरूकता...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 12, 2018, 02:05 AM IST

डायरिया के 7400, मलेरिया के 216 मरीज
जिले में जनवरी से जुलाई तक डायरिया के 7 हजार 400 और मलेरिया के 216 मरीज मिलने के बाद आखिरकार स्वास्थ्य विभाग ने जागरूकता अभियान की शुरुआत कर दी है। हालांकि अफसर कह रहे हैं कि मितानिनों के माध्यम से गांव व शहर के वार्डो में रोजाना लोगों को जानकारी दी जाती है।

बालोद शहर के संजयनगर वार्ड में शिविर लगाकर लोगों को जानकारी देते रहे कि मौसमी बीमारियों से बचने के लिए आप सावधान बरते। बकायदा बीमारियों को दो श्रेणी संचारी और गैर संचारी रोग में बांटकर लोगों को बता रहे है कि इस बीमारी का यह लक्षण है और इस बीमारी का यह। अगर लक्षण दिखे तो तत्काल जांच कराइए। अफसरों का कहना है कि संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं छत्तीसगढ़ व सीएमएचओ के निर्देश पर अभियान चलाकर लोगों को जागरूक कर रहे हैंै।

बालोद. टिकरापारा में लोगों को जागरुक करती स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी।

मच्छरों व मक्खियाें से फैलती हंै बीमारियां

संचारी रोग: बीएमओ एस. सोनी का कहना है कि संचारी रोग मच्छर, मक्खी से होते हैं। इसे संक्रामक बीमारी कहा जा सकता है। जैसे मच्छरों से होने वाला मलेरिया, डेंगू, फाइलेरिया सहित अन्य बीमारियां।

भास्कर न्यूज | बालोद

जिले में जनवरी से जुलाई तक डायरिया के 7 हजार 400 और मलेरिया के 216 मरीज मिलने के बाद आखिरकार स्वास्थ्य विभाग ने जागरूकता अभियान की शुरुआत कर दी है। हालांकि अफसर कह रहे हैं कि मितानिनों के माध्यम से गांव व शहर के वार्डो में रोजाना लोगों को जानकारी दी जाती है।

बालोद शहर के संजयनगर वार्ड में शिविर लगाकर लोगों को जानकारी देते रहे कि मौसमी बीमारियों से बचने के लिए आप सावधान बरते। बकायदा बीमारियों को दो श्रेणी संचारी और गैर संचारी रोग में बांटकर लोगों को बता रहे है कि इस बीमारी का यह लक्षण है और इस बीमारी का यह। अगर लक्षण दिखे तो तत्काल जांच कराइए। अफसरों का कहना है कि संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं छत्तीसगढ़ व सीएमएचओ के निर्देश पर अभियान चलाकर लोगों को जागरूक कर रहे हैंै।

गैर संचारी रोग: इस श्रेणी में डायबिटिज, शुगर व अन्य बीमारियों को रखा गया है।

इस तरह लोगों को किया जा रहा जागरूक

पानी पीयो शुद्ध व साफ, पानी हमेशा उबालकर पीयें।

अपने घर में और उसके आसपास पानी जमा न होने दे। गड्‌ढों को मिट्‌टी से भर देवें। रुकी हुई नालियों को साफ करें। कूलर व फूलदानों का पानी सप्ताह में एक बार पूरी तरह खाली करें। खाली व टूटे फूटे टायरों, डिब्बों व बोतलों को सहीं जगह रखें।

कूड़ा-कचरे को न इधर उधर न फेकें। घर के आसपास जंगली घास व झाड़िया न उगने दें। घर के खिड़कियों दरवाजों पर जाली लगाकर मच्छरों को आने से रोकें।

मच्छरों से बचने के लिए मच्छरदानी का उपयोग अनिवार्य करें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Balod

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×