Hindi News »Chhatisgarh »Balod» 200 से ज्यादा गांवों को ब्लाॅक और जिला मुख्यालय से जोड़ने वाली सड़क हुई खराब

200 से ज्यादा गांवों को ब्लाॅक और जिला मुख्यालय से जोड़ने वाली सड़क हुई खराब

बारिश में सड़कों की बदहाल स्थिति हो गई है। सड़कों पर डामर की जगह गड्ढे दिखाई दे रहे हैं। इन गड्‌ढों में पानी भरा हुआ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 12, 2018, 02:05 AM IST

200 से ज्यादा गांवों को ब्लाॅक और जिला मुख्यालय से जोड़ने वाली सड़क हुई खराब
बारिश में सड़कों की बदहाल स्थिति हो गई है। सड़कों पर डामर की जगह गड्ढे दिखाई दे रहे हैं। इन गड्‌ढों में पानी भरा हुआ है। बारिश से सड़कों का हाल बेहाल है। जिले के 200 से ज्यादा गांवों को ब्लाॅक व जिला मुख्यालय से जोड़ने व लोगों की राह आसान बनाने सड़कों का डामरीकरण तो किया गया लेकिन मरम्मत नहीं होने से आज यह लोगों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। हजारों लोगों को विभिन्न समस्याओं से जूझना पड़ रहा है।

इससे विभागीय अफसर अनजान नहीं है, वे कहते हैं कि बारिश में ऐसी स्थिति आ ही जाती है। शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। कई जगहों में मरम्मत कार्य के लिए सड़क किनारे मुरुम रखवा दिए है, जल्द गड्ढों को पाटा जाएगा, यानि करोड़ों के खर्च से बनाई गई सड़कों पर अब मुरुम डालने की तैयारी चल रही है।

लोगों का कहना है कि सड़कों की दशा सुधारने के लिए अफसरों व जनप्रतिनिधियों को पहल करना चाहिए। शिकायत पर सड़कों को सुधारने की बात कहकर औपचारिकता निभाते हैं। आलम यह है कि कौन सी सड़क किस हाल में है, यह भी कोई नहीं बता पा रहे है। मनीष विश्वकर्मा, खेवेन्द्र साहू का कहना है कि दिन में कैसे भी बालोद आ जाते है लेकिन रात में ज्यादा परेशानी होती है। अधिकारी व जनप्रतिनिधि चारपहिया वाहन से गुजरते हैं, इसलिए उन्हें बदहाल सड़कों से होने वाले परेशानी का अहसास नहीं है। साइकिल, दोपहिया वाहन के जरिए जो रोज आना जाना कर रहे हैं, वे परेशान हो रहे हैं। जिला मुख्यालय को जोड़ने वाली नयापारा से भोथली तक की सड़क में सैकड़ों गड्‌ढे हैं।

बालोद. नयापारा बालोद से ओरमा मार्ग खराब हो गई है। डामर उखड़ गया है। गड्‌ढे हो गए हैं।

बारिश और भारी वाहनों के दबाव से सड़कों को नुकसान

सड़क खराब होने का प्रमुख कारण माॅनिटरिंग व मेंटनेंस पर ध्यान नहीं दिया जाना है। करोड़ों खर्च कर सड़क तो बना दी जाती है लेकिन भारी वाहनों के दबाव की वजह से डामर, गिट्टी उखड़ने लगते हैं। इसके बाद मेंटेनेंस के अभाव में दिनोंदिन सड़क खराब होती चली जाती है। रोजाना आने वाले रूपेश का कहना है कि नयापारा से भोथली मार्ग पर गड्ढे हो चुके हैं। दिन में किसी भी तरह से जिला मुख्यालय आ जाते हैं लेकिन रात के समय परेशानी हो रही है।

शिकायत पर करवाते हैं सड़कों की मरम्मत: गोटी

पीडब्ल्यूडी बालोद डिविजन के एसडीओ बीके गोटी का कहना है कि सड़क पांच साल तक गारंटी अवधि में रहती है। जहां-जहां सड़क खराब होने की शिकायत मिलती है, संबंधित ठेकेदार को मरम्मत कार्य कराने कहते हैं। जहां गारंटी अवधि समाप्त हो गई है, वहां मरम्मत करा रहे हैं। फंड का अभाव होने से कई जगहों में काम नहीं हो पा रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Balod

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×