• Hindi News
  • Chhattisgarh News
  • Balod News
  • चिटफंड कंपनियों की जमीन तो है लेकिन कोई खरीददार नहीं मिल रहा
--Advertisement--

चिटफंड कंपनियों की जमीन तो है लेकिन कोई खरीददार नहीं मिल रहा

जिले के 40 हजार से ज्यादा लोगों के चिटफंड कंपनी में लाखों रुपए फंसे हैंं। प्रभावितों में निम्न वर्ग से लेकर उच्च...

Dainik Bhaskar

Aug 12, 2018, 02:05 AM IST
जिले के 40 हजार से ज्यादा लोगों के चिटफंड कंपनी में लाखों रुपए फंसे हैंं। प्रभावितों में निम्न वर्ग से लेकर उच्च वर्ग के लोग भी शामिल हैं। पुलिस के अनुसार जिले के लोगों से चिटफंड कंपनियों ने 60 करोड़ ठगे हैं, यह न्यूनतम आंकड़ा है। वास्तविक आंकड़ा की गणना अब तक नहीं होने की बात पुलिस कह रही है, क्योंकि रोज शिकायतें आ रही है और ठगी के शिकार लोगों की संख्या के साथ राशि भी बढ़ती जा रही है।

भले ही यालको कंपनी की जमीन राजनांदगांव व दल्लीराजहरा में है, जिसे कुर्की कर पैसा लौटाने की कार्रवाई की जाएगी, ऐसा दावा किया जा रहा है लेकिन कब तक कोई बता नहीं पा रहा है, कारण यह है कि जमीन की नीलामी कैसी होगी, जमीन खरीदने खरीददार मिलेगा या नहीं? यह संस्पेंश है, इसे विभागीय अफसर भी स्वीकार कर रहे हैं। वैसे भी जिले में चिटफंड कंपनियों का कारोबार 2004 से 2015 तक तेजी से बढ़ा। लोगों को रुपए डबल करने का झांसा देकर अपना काम आसानी से किए। किसी ने शिकायत नहीं की तो पुलिस ने भी हस्तक्षेप नहीं किया। जब मैच्योरिटी के बाद पैसा दोगुना नहीं मिला तो शिकायत हुई, यह भी 2015 में। तब पुलिस ने कार्रवाई की। तत्कालीन कलेक्टर नरेन्द्र शुक्ला, एसपी आरिफ शेख के कार्यकाल में कार्रवाई तेजी से हुई। आलम यह रहा कि दो साल के अंदर यानि 2017 तक 13 चिटफंड कंपनियों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ। हालांकि जब मामला दर्ज हुआ तो सभी कंपनी के डायरेक्टर फरार हो गए थे। वे करोड़ों का कारोबार यानि लोगों को ठग लिए थे। जब पुलिस गिरफ्त में आया तो खाली हाथ, ऐसे में संपत्ति की तलाश की गई। कई कंपनियों की जमीन मिली लेकिन खरीददार नहीं, इसलिए विभागीय कार्रवाई धीमी हो गई है। पुलिस, प्रशासन कह रहा कि पैसा लौटाने की कार्रवाई न्यायालय करेगी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..