• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Balod
  • 4 माह में उल्टी दस्त से 4536 बीमार 28 से डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा शुरू
--Advertisement--

4 माह में उल्टी-दस्त से 4536 बीमार 28 से डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा शुरू

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 03:15 AM IST

Balod News - स्वास्थ्य विभाग के सर्वे रिपोर्ट 4 महीने में जिले में 4536 डायरिया के मरीज मिले हैं। पिछले साल 12000 से अधिक मरीज मिले थे।...

4 माह में उल्टी-दस्त से 4536 बीमार 28 से डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा शुरू
स्वास्थ्य विभाग के सर्वे रिपोर्ट 4 महीने में जिले में 4536 डायरिया के मरीज मिले हैं। पिछले साल 12000 से अधिक मरीज मिले थे। जिले के23 गांव को संवेदनशील के रूप में चिन्हित किया गया है। अन्य गांव में भी इसकी शिकायत ना आए, इसके लिए 28 मई से 9 जून तक डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा चलाया जाएगा।

कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर ने स्वास्थ्य विभाग की बैठक लेकर इस अभियान के लिए डॉ एसएस देवदास को नोडल अधिकारी व रिपोर्टिंग के लिए जिला डाटा मैनेजर रवि भूषण सोनबरसा को नियुक्त किया है। पखवाड़े के दौरान स्वास्थ्य विभाग लोगों में डायरिया के प्रति जन जागरूकता लाने काम करेंगे। जिसमें डायरिया से पीड़ित बच्चों में गंभीर लक्षण की पहचान कर अस्पताल रेफर करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। गांव में बैठक या चौपाल लगा कर लोगों को सतर्क किया जाएगा। 5 साल के बच्चों की डायरिया से मौत रोकने के लिए ओआरएस व जिंक की गोली के उपयोग व फायदे पर जानकारी का प्रदर्शन किया जाएगा। स्कूलों में हाथ धोने की विधि का प्रदर्शन किया जाएगा। डायरिया नियंत्रण व शिशु पोषण एवं आहार व्यवहार पर गर्भवती शिशुवत माताओं की काउंसलिंग कर उन्हें स्वास्थ्य शिक्षा दी जाएगी। अंतर विभागीय गतिविधि व पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों की सहभागिता से लोगों को जागरुक किया जाएगा।

बच्चों को दस्त होने पर इन बातों का रखें ध्यान

सीएमओ जीके चौबे ने बताया कि बच्चे को दस्त हो रहा है तो नियमित ध्यान रखना बहुत जरूरी है। क्योंकि अक्सर बच्चों में डायरिया गंभीर रुप ले लेती है। इसके लिए उन्हें ओआरएस का पैकेट 1 लीटर पीने का पानी में अच्छी तरह घोलकर दस्त शुरू होते ही और हर दस्त के बाद पिलाते जाए। जिंक की गोली एक चम्मच पीने के पानी या मां के दूध में घोलकर 14 दिनों तक पिलाए। दस्त के दौरान एवं दस्त के बाद बच्चे को मां के दूध और ऊपरी आहार देना जारी रखें। बच्चे की मल का तुरंत निपटान करें और साफ सफाई का ध्यान रखें। खाना पकाने और खिलाने से पहले और मल साफ करने के बाद हाथ को साबुन से धोएं।

इन गांवों को संवेदनशील माना है विभाग ने: बालोद ब्लॉक के ग्राम नेवारीकला, परसोदा, बोरी, हर्राठेमा. गुरुर ब्लॉक के बोहारा, डोडोपार, अरकार, रमतरा,खोरदो, चिरचारी, डौंडी ब्लॉक के मरदेल, सिंगनवाही, पंडेल, बकलीटोला, डौंडीलोहारा ब्लॉक में जेवरतला, मुड़खुसरा, सुरेगांव।

X
4 माह में उल्टी-दस्त से 4536 बीमार 28 से डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा शुरू
Astrology

Recommended

Click to listen..