Home | Chhatisgarh | Balod | स्कूल के विकास में लगा चुके वेतन से सात लाख, बैग भी बांटे

स्कूल के विकास में लगा चुके वेतन से सात लाख, बैग भी बांटे

शासकीय प्राथमिक विद्यालय चिटौद की प्रधानपाठक चित्रकला दीवान 31 जुलाई को सेवानिवित्त हुई। उनकी विदाई पर स्कूल...

Bhaskar News Network| Last Modified - Aug 13, 2018, 03:15 AM IST

स्कूल के विकास में लगा चुके वेतन से सात लाख, बैग भी बांटे
स्कूल के विकास में लगा चुके वेतन से सात लाख, बैग भी बांटे
शासकीय प्राथमिक विद्यालय चिटौद की प्रधानपाठक चित्रकला दीवान 31 जुलाई को सेवानिवित्त हुई। उनकी विदाई पर स्कूल परिवार व गांव वालों ने शनिवार को एक सम्मान समारोह रखा। जहां उन्हें विदा करते 203 बच्चे शिक्षक व ग्रामीण भावुक हो उठे।

स्कूल समिति अध्यक्ष परमानन्द यादव, शिक्षक ईश्वरी सिन्हा ने बताया स्कूल को संवारने में प्रधान पाठक चित्रकला दीवान ने लगभग 6 सालों में अपने वेतन से 7लाख रुपए से भी ज्यादा खर्च कर दिया है। जाते-जाते भी वे अपने वेतन से लगभग 70 हजार खर्च करके सभी बच्चों के लिए बैग दे गए। उन्होंने स्कूल में मां सरस्वती की मूर्ति, बजरंगबली की मूर्ति एवं मंदिर, परिसर में हरा-भरा गार्डन, स्कूल भवन के रंग रोगन, रंगमंच, आकर्षक स्वागत द्वार बनवाया है। बच्चों को हाईटेक शिक्षा के लिए कम्प्यूटर दिया। अपने जन्मदिन पर 6 वर्षों से शिक्षक परिवार, अन्य सहायक कर्मचारी को कपड़े व अन्य तोहफे देते रहे। इस जन्मदिन पर सभी बच्चों को कॉपी पेन भी दिया।ं

बालोद. शासकीय प्राथमिक विद्यालय चिटौद की प्रधान पाठिका को गिफ्ट देते बच्चे।

लगाव एेसा कि पहले जहां पदस्थ थे वहां गांव वालों ने घर बनाकर दिया

यह बड़ी बात है कि एक शिक्षक आज के दौर में गांव वालों के साथ परिवार की तरह जुडी हो। लेकिन चित्रकला दीवान की कार्यशैली से सब उनसे घर परिवार की तरह जुड़े हैं। उनका मायके भांठा गांव गुंडरदेही व सुसराल ग्राम ढीमर टीकुर नवागांव है। शिक्षा विभाग में उनकी पहली नियुक्ति 25 सितंबर 1978 में सहायक शिक्षक के पद पर शासकीय कन्या प्राथमिक शाला अंवारी, तहसील डौंडी में हुई। यहां 20 वर्ष तक अकेले पढ़ाती रही। फिर बाद में 2 शिक्षक हुए। ग्राम अवारी में 34 वर्ष तक रहे। उनसे गांव वालों का लगाव इतना ज्यादा था कि गांव वालों ने उन्हें जमीन तो दिया ही घर भी बनाकर दिया।

शिक्षकों ने समारोह में विदाई पर किया सम्मान, यादगार चीजें भेंट की

सम्मान समारोह में शाला परिवार ने चांदी की मूर्ति, मोमेंटो, पायल, बिछिया, साड़ी, श्रृंगार सामान, बैग, घड़ी, स्वेटर, छाता, शाल,श्रीफल, डायरी, विभिन्न अवसरों की यादगार छायाचित्र फोटो फ्रेम, विदाई फ्लेक्स भेंट की। उनके पति मन्नू लाल दीवान को शाल, बैग, पेंट शर्ट तथा दोनों पुत्रों डोमेन्द्र व गोपेन्द्र दीवान व पुत्री भारती को बैग भेंट की। स्कूल से 20 किमी दूर प्रधान पाठक के गांव जाकर अन्य शिक्षकों व ग्रामीणों ने उन्हें बाजे गाजे के साथ घर तक पहुंचाया। मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष देवलाल ठाकुर थे। अध्यक्षता गुरुर जनपद अध्यक्ष डामेश्वरी कौशल साहू ने की।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now