• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Baloda
  • 8 महीने बाद चुनाव हुआ, भाजपा के दुर्गेश निर्विरोध चुने गए
--Advertisement--

8 महीने बाद चुनाव हुआ, भाजपा के दुर्गेश निर्विरोध चुने गए

Baloda News - करीब आठ माह के लंबे अंतराल के बाद नगर पंचायत बलौदा में उपाध्यक्ष पद के लिए सोमवार को चुनाव हुआ, जिसमें बीजेपी...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 02:15 AM IST
8 महीने बाद चुनाव हुआ, भाजपा के दुर्गेश निर्विरोध चुने गए
करीब आठ माह के लंबे अंतराल के बाद नगर पंचायत बलौदा में उपाध्यक्ष पद के लिए सोमवार को चुनाव हुआ, जिसमें बीजेपी पार्षद दुर्गेश स्वर्णकार निर्विरोध निर्वाचित हुए। चुनाव में एक महिला पार्षद शामिल नहीं हुई।

दरअसल,नगर पंचायत बलौदा के पूर्व उपाध्यक्ष दुर्गा रजक के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था। प्रस्ताव अपने पक्ष में नहीं होने से उन्हें पद से स्वयं इस्तीफा देने की सलाह वरिष्ठ नेताओं द्वारा दी गई थी। जिसे उपाध्यक्ष ने मान लिया। इसके बाद अविश्वास प्रस्ताव में मतदान करने कोई भी पार्षद नहीं गया। दुर्गा रजक ने उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा कलेक्टर को सौंप दिया। तब से लेकर आठ माह से यह पद रिक्त पड़ा था।

पार्षदों ने कई बार निर्वाचन कराने मांग की। इसके बाद भी चुनाव नहीं कराया गया तो पार्षदों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर 20 अप्रैल तक उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव नहीं कराने पर नगर पंचायत कार्यालय के सामने भूख हड़ताल शुरू करने की चेतावनी दी थी। चेतावनी ने हरकत में आया जिला प्रशासन ने तहसीलदार सागर सिंह राज को पीठासीन अधिकारी बनाते हुए 16 अप्रैल को उपाध्यक्ष पद पर निर्वाचन की घोषणा कर दी। सोमवार को निर्वाचन प्रक्रिया शुरू की गई।

नियत समय तक सिर्फ एक फार्म वार्ड क्रमांक 7 के पार्षद दुर्गेश स्वर्णकार ने लिया। अन्य कोई पार्षद फार्म लेने नहीं आए थे जिससे दुर्गेश स्वर्णकार काे निर्विरोध उपाध्यक्ष बनना तय हो गया था।

चुनाव

लंबे समय से पद रिक्त होने पर 20 अप्रैल तक चुनाव नहीं होने पर पार्षदों ने भूख हड़ताल करने दी थी चेतावनी

चुनाव में एक भी महिला पार्षद शामिल नहीं हुई

कांग्रेसी पार्षद को नहीं मिला प्रस्तावक

15 पार्षदो वाले परिषद में कांग्रेस के मात्र दो पार्षद हैं। वे किसी भी सूरत में जीत तो नहीं सकते पर भाजपा को वाक ओवर देने के पक्ष में भी नहीं थे। वार्ड क्रं 13 कांग्रेस के पार्षद देवचरण रात्रे उपाध्यक्ष का चुनाव लड़ना चाह रहे थे लेकिन एक अन्य कांग्रेसी पार्षद उमा देवांगन की अनुपस्थिति से उन्हें प्रस्तावक नहीं मिला। जिससे वो चुनाव नहीं लड़ सके और बीजेपी को वाक ओवर मिल गया।

उपाध्यक्ष बनने के बाद दुर्गेश ने पैर छूकर आशीर्वाद लेते हुए।

नगर पंचायत बलौदा में शुरू से ही बीजेपी का पूर्ण बहुमत

नगर पंचायत बलौदा में शुरू से से ही बीजेपी का पूर्ण बहुमत था। 15 पार्षद में से 12 पार्षद बीजेपी, एक निर्दलीय तथा दो पार्षद कांग्रेस के हैं। बीजेपी उम्मीदवार की जीत लगभग तय थी, चूंकि पूर्व में उपाध्यक्ष पद के लिए बीजेपी से ही दो उम्मीदवार खड़े हो गए जिसके कारण बीजेपी को बहुमत होने के बाद भी अधिकृत उम्मीदवार को जिताने में पसीना छूट गया था। पार्टी इस बार कोई रिस्क नहीं लेना चाह रही थी जिसके चलते सोमवार को सुबह से ही पार्टी के सभी बड़े नेता सांसद कमला पाटले, जिला भाजपा अध्यक्ष मेघाराम साहू, विधानसभा प्रभारी ज्योति नंद दुबे, कार्तिकेश्वर स्वर्णकार, लीलाधर सुल्तानिया, कमल देवांगन, पूर्व विधायक सौरभ सिंह, दिनेश सिंह, मंडल अध्यक्ष महेन्द्र दुबे, कल्याणी साहू जैसे बड़े नेता रेस्ट हाऊस बलौदा में डेरा डाले हुए थे।

X
8 महीने बाद चुनाव हुआ, भाजपा के दुर्गेश निर्विरोध चुने गए
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..