पाेंगाभेजी के लोगों ने 3 मिलिशिया सदस्यों का करवा दिया समर्पण

Bastar Jagdalpur News - जिले के फुलबगड़ी थाना क्षेत्र के पोंगाभेजी गांव के 40 ग्रामीण गांव में मिलिशिया सदस्य के रुप में सक्रिय मड़कम रामा,...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:40 AM IST
Sukma News - chhattisgarh news pengabhabi people surrender to 3 militia members
जिले के फुलबगड़ी थाना क्षेत्र के पोंगाभेजी गांव के 40 ग्रामीण गांव में मिलिशिया सदस्य के रुप में सक्रिय मड़कम रामा, पुनेम गंगा और पोड़ियम हिड़मा के साथ शनिवार को पुराने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर एसपी शलभ सिन्हा ने मुलाकात की। ग्रामीणों की समझाइश पर रामा, गंगा व हिड़मा ने नक्सलवाद से तौबा करने का मन बनाया। ग्रामीणों ने एसपी को भरोसा दिलाया कि वे तीनों अब नक्सल गतिविधियों से दूर रहेंगे। मुख्यधारा में रहकर सामान्य जिंदगी जीना चाहते हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि पोंगाभेजी गांव के और भी युवक नक्सली संगठन में जुड़े हुए हैं। उन्हें भी समझाईश देकर मुख्यधारा में लाने की बात ग्रामीणों ने कही। एसपी शलभ सिंहा ने कहा कि फुलबगड़ी थाना क्षेत्र का पोंगाभेजी गांव नक्सली मामले में काफी संवेदनशील है। इस गांव के काफी लोग नक्सली संगठन से जुड़े हुए हैं। नक्सली हिंसा व गतिविधियों से ग्रामीण अब परेशान हो चुके हैं। शनिवार को ग्रामीण स्वयं ही तीन मिलिशिया सदस्य के साथ यहां पहुंचकर नक्सली गतिविधियों से दूर रहने की बात कही। वे गांव को नक्सल मुक्त करना चाहते हैं। क्याेंकि उनकी वजह से गांव में अाज तक सड़क, पु‍ल जैसी जरूरतें पूरी नहीं हाे सकी हैं। एसपी ने ग्रामीणों ने चर्चा कर उनकी समस्याएं सुनी और उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।


सुकमा. पोंगाभेजी गांव के ग्रामीणों से चर्चा कर उनकी समस्याओं को सुनते एसपी शलभ सिन्हा।

तेदमुंता अौर मित्रवत अभियान का असर

पुलिस के बढ़ते दबाव और लंबे समय से जिले में चल रहे तेदमुंता व मित्रवत पुलिस जैसे अभियान की वजह से लोगों का नक्सलवाद से मोह भंग हो रहा है। पिछले दो वर्षों से जिले के धुर नक्सल प्रभावित ग्रामीण इलाकों में पुलिस के अफसर ग्रामीणों की लगातार बैठक लेकर उनकी समस्याएं सुन हरसंभव मदद कर रहे हैं। सुरक्षाबलों द्वारा लगातार जारी नक्सल ऑपरेशन के बीच तेदमुंता व मित्रवत पुलिस अभियान भी जारी है। कोंटा इलाके में तेदमुंता अभियान की शुरुआत दोरनापाल के तात्कालिक एसडीओपी विवेश शुक्‍ल और मित्रवत पुलिस अभियान की शुरुआत सुकमा के तात्कालिक एसडीओपी रामगोपाल करियारे ने की थी।


डीआरजी जवान की हत्या में मिले सुराग, पुलिस मलकानगिरी रवाना

सुकमा | आरक्षक रामनिवास मरकाम की हत्या के मामले में पुलिस को मोबाइल के कॉल डिटेल्स से अहम सुराग हाथ लगे हैं। आरोपियों की धरपकड़ के लिए शनिवार को पुलिस की टीम मलकानगिरी रवाना हो गई है। बताया गया कि शनिवार को पुलिस ने मलकानिगरी पुलिस की मदद से यहां के अलग-अलग जगहों पर दबिश दी है। आरोपी जल्द ही पुलिस के हत्थे चढ़ सकते हैं।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक आपसी रंजिश में ही रामनिवास मरकाम के पहचान वालों ने ही उसकी हत्या की है। मामले की जांच रहे एएसपी सिद्धार्थ तिवारी ने कहा कि पड़ताल में उन्‍हें कई अहम सुराग हाथ लगे हैं। अंधे कत्‍ल की गुत्‍थी सुलझाने के वे बेहद करीब हैं। रविवार को इस मामले का पटाक्षेप करने की बात उन्‍होंने कही। गौरतलब है कि शुक्रवार अलसुबह पुलिस ने नगर के मलकानगिरी बाईपास पुसामीपारा-सुपनार मार्ग पर बुरकापाल में तैनात डीआरजी जवान रामनिवास का शव व बोलेरो वाहन बरामद किया था। अज्ञात लोगों ने धारदार हथियार से जवान की हत्या कर शव सड़क किनारे झाड़ियाें में फेंक दिया था। शुरुआती जांच में जवान की हत्या पड़ोसी राज्य ओडिशा के मलकानगिरी में करने की बात सामने आई थी।


X
Sukma News - chhattisgarh news pengabhabi people surrender to 3 militia members
COMMENT