• Home
  • Chhattisgarh News
  • Bastar News
  • बारदा नदी पर बनेगा पुल, 12 गांवों के ग्रामीणों ने नृत्य कर खुशी मनाई
--Advertisement--

बारदा नदी पर बनेगा पुल, 12 गांवों के ग्रामीणों ने नृत्य कर खुशी मनाई

भास्कर न्यूज | कोंडागांव/केशकाल चुरेगांव में बारदा नदी पर पुल न होने से 12 गांवों के लोगों की आने-जाने में परेशानी...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:05 AM IST
भास्कर न्यूज | कोंडागांव/केशकाल

चुरेगांव में बारदा नदी पर पुल न होने से 12 गांवों के लोगों की आने-जाने में परेशानी होती थी। ग्रामीणों की इस समस्या को दूर करने शुक्रवार को सांसद विक्रम उसेंडी, बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष भोजराज नाग और कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने बारदा नदी पर पुल निर्माण की आधारशिला रखी। इस मौके पर खुश होकर ग्रामीणों ने सामूहिक नृत्य किया। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष देवचंद मातलाम, सदस्य लददूराम उइके, पूर्व विधायक सेवकराम नेताम, नगर पंचायत अध्यक्ष आकाश मेहता, कार्यपालन अभियंता देवेंद्र नेताम, सहायक आयुक्त जीएस सोरी, अभियंता अरुण शर्मा सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

यह पुल विकास का सेतु बनेगा: उसेंडी :भूमिपूजन के बाद सांसद विक्रम उसेंडी ने कहा कि यह पुल इस इलाके के विकास में सेतु का काम करेगा। इस पुल के बनने से शासन की सभी सुविधाएं एवं योजनाएं निर्बाध रूप से ग्रामीणों तक पहुंचेगी। वहीं राहगीर भी आसानी से आना-जाना कर सकेंगे। विधायक अंतागढ़ भोजराज नाग ने कहा पुल बनने से क्षेत्र में विकास को गति मिलेगी एवं ग्रामीणों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आएगा।

इन गांवों के लोगों को मिलेगी सुविधा : पुल बनने से चुरेगांव एवं ईरागांव के अलावा सवालवाही अर्रा, कावागांव, कोटगोड़ा, हलईनार, पराली, तमोरा, जुगानार, कलेपाल, बुढ़ाकुरसई, करमरी, कोंगेरा ,मातलाना, तेलगाए मुल्ले, पुचाड़ी, कुदुरपाल, भंडारपाल, पीपरा व ग्राम गरदा के लोगों को आने-जाने में आसानी होगी।

कोंडागांव. पुल बनने की खुशी में नृत्य करते ग्रामीण।

लकड़ी के सहारे पैदल आवाजाही करते थे

बारदा नदी पर पुल नहीं होने से लकड़ी के सहारे ग्रामीण पैदल आवाजाही करते थे, लेकिन अब पुल बनने से वाहनों की आवाजाही होगी। पुल का निर्माण 92 लाख 79 हजार रुपए में किया जाएगा। पीडब्ल्यूडी के कार्यपालन अभियंता देवेंद्र नेताम ने कहा कि केशकाल ब्लाॅक के इस बेहद अंदरूनी गांव में पुलिया निर्माण करना एक चुनौती है। इसका सामना करते हुए जल्द इस काम को शुरू किया जाएगा।