• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Bastar
  • मार्च क्लोजिंग पर रात 12 बजे तक बैंकों में जुटे कर्मी, सालभर में 50 हजार से ज्यादा बिल पारित
--Advertisement--

मार्च क्लोजिंग पर रात 12 बजे तक बैंकों में जुटे कर्मी, सालभर में 50 हजार से ज्यादा बिल पारित

Bastar News - लेखा-जोखा पूरा करने शनिवार को अंतिम रहा। इसके चलते जहां बैंकों में रात 12 बजे तक कारोबार जारी रहा, वहीं कर सलाहकार और...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:05 AM IST
मार्च क्लोजिंग पर रात 12 बजे तक बैंकों में जुटे 
 कर्मी, सालभर में 50 हजार से ज्यादा बिल पारित
लेखा-जोखा पूरा करने शनिवार को अंतिम रहा। इसके चलते जहां बैंकों में रात 12 बजे तक कारोबार जारी रहा, वहीं कर सलाहकार और सीए के दफ्तरों में भी आधी रात तक लोगों की चहल-पहल रही। मार्च क्लोजिंग के लिए बैंक अधिकारी-कर्मचारियों के साथ-साथ आयकर विभाग भी जुटा रहा। जिला कोषालय में आए सारे बिल पारित कर दिए गए, लेकिन एक 25 लाख रुपए का बिल वित्तीय स्वीकृति के लिए शासन के पास भेजा गया, जिस पर देर शाम तक मंजूरी नहीं मिल पाई थी। इस वित्तीय वर्ष में बस्तर जिले के विभिन्न विभागों के कुल 50293 बिल जमा हुए, जिनमें से 50292 बिलों का निराकरण कर राशि जारी कर दी गई है।

वरिष्ठ कोषालय अधिकारी जोस फिलिप ने बताया कि इस साल कोषालय को साइबर टेक्नोलॉजी से लिंक करने के कारण राशि की जानकारी केवल मंत्रालय स्तर से ही मिल सकती है। इधर बैंकों में भी देर रात तक ग्राहक पहुंचते रहे। इधर बीमा कंपनियों के प्रतिनिधि भी रात 12 बजे तक अपने ग्राहकों से प्रीमियम जमा कराने इधर से उधर घूमते रहे।

रविवार को बैंक हॉलिडे, बैंक कर्मियों की खराब हुई एक दिन की छुट्‌टी : क्लोजिंग के दिन 31 मार्च को रात 12 बजे तक कारोबार चलते रहने के चलते 1 अप्रैल को बैंकों की छुट्‌टी घोषित होती है, लेकिन इस साल 1 अप्रैल को रविवार पड़ने के कारण सोमवार से फिर बैंकों में कामकाज शुरू हो जाएगा। बैंक छुट्‌टी के दिन रविवार पड़ने से बैंककर्मी परेशान हो गए हैं। रविवार को छोड़ किसी दूसरे दिन बैंक की छुट्‌टी होती तो वे आराम कर पाते, लेकिन रविवार के कारण उनकी छुट्‌टी बेकार हो गई है।

जगदलपुर. एसबीआई की कलेक्टोरेट शाखा में देर शाम भी जमे रहे ग्राहक।

सालभर में साढ़े 75 करोड़ का लक्ष्य 12588 को बांटे 102 करोड़ के ऋण

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत जहां जिला उद्योग केंद्र को 113 मामलों का निपटारा करने और 2 करोड़ 12 लाख के ऋण वितरण का लक्ष्य दिया गया था, वहीं इसमें केंद्र ने 136 लोगों को 2 करोड़ 13 लाख का ऋण देने की स्वीकृति दी गई है, जिसमें से 81 को 1 करोड़ 15 लाख रुपए का ऋण दिया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना में 20 के लक्ष्य के विपरीत 31 प्रकरणों में 57 लाख 42 लाख रुपए मंजूर करते हुए 18 को 27 लाख 70 हजार रुपए और प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में 12378 को 72 करोड़ 75 लाख रुपए के लक्ष्य पर 12489 को 100 करोड़ 49 लाख रुपए का ऋण दिया गया है।

X
मार्च क्लोजिंग पर रात 12 बजे तक बैंकों में जुटे 
 कर्मी, सालभर में 50 हजार से ज्यादा बिल पारित
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..