• Home
  • Chhattisgarh News
  • Bastar News
  • अफसरों ने नक्सलियों का इतिहास बताया तो ग्रामीण बोले- अब गांव में नहीं घुसने देंगे नक्सलियों को
--Advertisement--

अफसरों ने नक्सलियों का इतिहास बताया तो ग्रामीण बोले- अब गांव में नहीं घुसने देंगे नक्सलियों को

दोरनापाल. पुलिस के नक्सल विरोधी अभियान में उमड़े ग्रामीण। भास्कर न्यूज | दोरनापाल जिले में चलाए जा रहे नक्सल...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 02:05 AM IST
दोरनापाल. पुलिस के नक्सल विरोधी अभियान में उमड़े ग्रामीण।

भास्कर न्यूज | दोरनापाल

जिले में चलाए जा रहे नक्सल विरोधी तेंदमुंता अभियान के तहत पुलिस की टीम बुधवार को दोरनापाल से 14 किमी दूर नक्सल प्रभावित ग्राम मुंडपल्ली पहुंचे। यहां पुलिस एसडीओ विवेक शुक्ला और टीआई अमित सिंह ने ग्रामीणों को नक्सलियों के इतिहास के बारे में बताया और कहा कि नक्सली गांव के युवाओं को डरा और फुसलाकर अपने साथ ले जा रहे हैं, वहीं कई निर्दोष ग्रामीणों को भी मार रहे हैं। अफसरों की बातों को सुनने के बाद ग्रामीणाें ने आने वाले दिनों में नक्सलियाें से नहीं डरने और उन्हें गांव के अंदर नहीं घुसने देने का वादा किया।

विवेक शुक्ला ने कहा कि वे आतंक और भय फैलाकर नक्सली लोगों को परेशान कर रहे हैं। उन्होंने ग्रामीणों को शासन द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में जानकारी दी और इसका लाभ उठाने के लिए कहा।

एसडीओ ने बताया तेदमुंता बस्तर अभियान नक्सल प्रभावित ग्रामों में चलाए जाने वाला एक लगातार संपर्क अभियान है। इसके तहत जवान नक्सल प्रभावित ग्रामों बार-बार जाते हैं और ग्रामीणों व पुलिस के मध्य एक संबंध बनाने की कोशिश की जाती है।

गांव के अधिकतर लोग अशिक्षित है। यहां शिक्षा के प्रति ग्रामीणों को जागरूक किया गया एवं वहां उपस्थित सभी ग्रामीणों को अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित किया गया। गौरतलब है कि मुंडपल्ली गांव में मुख्यतः मुड़िया जनजाति के लोग निवास करते हैं, जो गोंडी में बोलते हैं। इस दौरान पुलिस बल के जवान और दोरनापाल थाना स्टाफ मौजूद थे।