• Home
  • Chhattisgarh News
  • Bastar News
  • जोगी कांग्रेस में बड़ी सर्जरी की तैयारी, कई विधानसभा प्रभारी और जिलाध्यक्षों को हटाया जा सकता है
--Advertisement--

जोगी कांग्रेस में बड़ी सर्जरी की तैयारी, कई विधानसभा प्रभारी और जिलाध्यक्षों को हटाया जा सकता है

हाल ही में अमित जोगी के दौरे के बाद कई नेताओं को संगठन के महत्वपूर्ण पदों से हटाने की तैयारी होली के बाद कभी भी...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 02:05 AM IST
हाल ही में अमित जोगी के दौरे के बाद कई नेताओं को संगठन के महत्वपूर्ण पदों से हटाने की तैयारी

होली के बाद कभी भी लिस्ट हो जाएगी जारी,चुनाव से पहले बड़ी सर्जरी की खबरें

भास्कर न्यूज | जगदलपुर

जोगी कांग्रेस पूरे बस्तर संभाग में संगठन स्तर पर कई बड़े बदलाव करने की तैयारी है। इस बदलाव की चपेट में बस्तर जिले के कई नेता भी आ रहे हैं। पार्टी सूत्रों की मानें तो एक दिन पहले ही बदलाव वाली लिस्ट पार्टी के व्हाटसग्रुप में जारी भी कर दी गई थी लेकिन स्थानीय नेताओं के विरोध के बाद इसे फाइनल नहीं किया गया है और अब इस लिस्ट को होली के बाद संशोधित करने की बात कही जा रही है। एक दिन पहले ही बुधवार को बस्तर, चित्रकोट, कोंडागांव, बीजापुर में काम देख रहे कई नेताओं को किनारे कर दिया गया था और कुछ नेताओं को अतिरिक्त प्रभार भी सौंप दिए गए थे लेकिन कुछ वरिष्ठ नेताओं ने इसका विरोध किया इसके बाद फेरबदल की प्रक्रिया को रोक दिया गया है।

इन जिलों में अध्यक्षों की छुट्‌टी होना तय

होली के बाद जारी होने वाली लिस्ट में जगदलपुर (नगर), बीजापुर और कोंडागांव जिलाध्यक्षों को बदल दिया जाएगा। जगदलपुर नगर के जिलाध्यक्ष को बदलने का विरोध अंदर ही अंदर चल रहा है। ऐसे में यहां के लिए पार्टी आलाकमान को दोबारा विचार करना पड़ सकता है। इसके अलावा नारायणपुर, बस्तर, चित्रकोट और जगदलपुर, बीजापुर विधानसभा में भी प्रभारियों को बदला जा सकते हैं। पार्टी सबसे ज्यादा नाराजगी विधानसभा प्रभारियों को लेकर ही चल रही हैं। इस मामले में पार्टी दो गुटों में बट गई है।

होली के बाद कुछ फेरबदल संभव

जोगी कांग्रेस के लोकसभा प्रभारी टीके राव ने बताया कि अभी किसी प्रकार की कोई लिस्ट नहीं बनाई गई है लेकिन चुनावों के मद्देनजर कुछ परिवर्तन किए जाने हैं। ये परिवर्तन होली के बाद ही होंगे।

अमित की सभा में नहीं जुटी थी भीड़

माना जा रहा है कि होली के बाद बड़े स्तर पर सर्जरी की जाएगी। बदलाव की शुरुआत अमित जोगी के चार दिवसीय बस्तर दौरे के बाद ही शुरू हो गई थी। बताया जा रहा है कि एक सभा में अमित को बोलने के लिए काफी कम समय मिला और दूसरी सभा में भीड़ ही नहीं जुट सकी थी। इसके बाद से ही यह तय हो गया था कि संगठन में बड़े बदलाव होंगे।