--Advertisement--

बच्ची से रेप के बाद पत्थर से कुचला, तालाब में कपड़े धोए और घर आ गया

घटना के 72 घंटों के अंदर पथरिया पुलिस हत्या की गुत्थी सुलझाने में सफल रही पुलिस।

Dainik Bhaskar

Jan 18, 2018, 09:03 AM IST
गांव वालों ने दिखाया घटना स्थल। कोठार के बाहर काफी दूर तक घसीटने के निशान हैं और अंदर खून के धब्बे भी दिख रहे थे।  फोटो: पवन सोनी गांव वालों ने दिखाया घटना स्थल। कोठार के बाहर काफी दूर तक घसीटने के निशान हैं और अंदर खून के धब्बे भी दिख रहे थे। फोटो: पवन सोनी

बिलासपुर(छत्तीसगढ़). पथरिया थाना क्षेत्र के ग्राम धरदेई में 14 वर्ष की बच्ची से रेप और हत्या उसी गांव के राजेश साहू ने की थी। वारदात से पहले बच्ची को नशे की हालत में वह दबोचकर कोठार में ले गया, वहां रेप किया और पत्थर से सिर कुचल कर उसकी हत्या कर दी। घटना 14 जनवरी की रात को हुई थी। उस रात गांव में नवधा रामायण हो रहा था। इसके लिए कलश यात्रा निकली थी। यात्रा के दौरान रात 8 बजे के करीब बच्ची अपनी बहन से शौच के लिए घर जाने की बात कहकर तालाब के पास से अलग हो गई। आरोपी यहां पहले से ही बुरी नजर लगाए बैठा था। अंधेरे और सुनसान रास्ते का फायदा उठाकर बच्ची को उसने वहीं दबोच लिया। इसके बाद वह उसे घसीटकर कोठार में ले गया। यहां उसने गमछे से बच्ची का मुंह व हाथ बांध कर रेप किया। वारदात के बाद अपराध छुपाने की गरज से उसने बच्ची की निर्मम हत्या कर दी। तालाब में खून से सने अपने कपड़े धोए और घर आ गया।


घटना के 72 घंटों के अंदर पथरिया पुलिस हत्या की गुत्थी सुलझाने में सफल रही पुलिस ने दैनिक भास्कर को बताया कि पुलिस ने मृतका के परिजनों के संदेह के आधार पर मंगलवार को गांव के ही राजेश साहू पिता संतोष साहू उम्र 21 वर्ष को गिरफ्तार किया था। पुलिस की कड़ाई से उसने सारे राज उगल दिए। पुलिस ने उस पर हत्या और रेप के अपराध में धारा 302, 376 एवं पॉस्को एक्ट की धारा 4, 6 के तहत कार्रवाई की।

गांववालों ने गिरफ्तार करा दिया था आरोपी, पुलिस दो दिन सबूत तलाशती रही

(ग्राम धरदेई से दीपेंद्र शुक्ला) पथरिया के ग्राम धरदेई में घटना स्थल पर अब भी घसीटने और खून के निशान दरिंदगी की पूरी कहानी कह रहे हैं। हर कोई दुखी है। घटना की रात को कोई 1 बजे के बाद बच्ची की लाश मिली, तभी सबको शक हो गया था कि हत्यारा कौन रहा होगा? गांव वाले सीधे उसके घर पहुंचे और पूछताछ की थी। जनपद सदस्य सनद कुमार बरगाह ने बताया कि गांव के उप सरपंच विश्राम प्रसाद ठाकुर, श्रीराम साहू, अशोक कुमार ठाकुर, प्रदीप कुमार ठाकुर और वह खुद आरोपी युवक से मिलने उसके घर गए। उससे पूछा गया कि घटना के दौरान वह कहां था? अपराध से बचने पहले तो उसने किसी व्यक्ति द्वारा सर पर चोट कर हाथ-मुंह बांध कर घर के पास छोड़ देने का झूठा किस्सा सुना दिया। पूछताछ के दौरान ही गांववालों को आरोपी पर संदेह हो गया था, क्योंकि उसके सिर व कपड़ों में पैरावट की भूसी लगी हुई थी। संदेह के आधार पर जब कोठार के पैरावट के पास बच्ची की खोजबीन की गई, तो शक सही साबित हो गया। बच्ची का शव मिलने के बाद रात में ही गांववालों ने आरोपी के घर को घेरकर पुलिस बुलवाई तथा गिरफ्तार कराया।

कांपते हाथ हत्या की गवाही दे रहे थे
उप सरपंच विश्राम प्रसाद ठाकुर ने बताया कि आरोपी युवक की हरकत सहज नहीं थी। पूछताछ के दौरान वह असामान्य तथा उसके हाथ कांप रहे थे। शरीर पर पैरावट की भूसी लगे होने तथा कपड़े गीले होने के कारण उन्हें संदेह हुआ कि हो न हो युवक ने पैरावट में ही कुछ किया होगा। गांव के 20-25 लोगों ने खोजबीन शुरू की। एक कोठार में देखने के बाद वे बलराम के खलिहान में पहुंचे। इसके लिए मेन गेट से न जाकर मिट्टी की दीवार जहां कांटा नहीं लगा था, फांद कर अंदर दाखिल हुए। जनपद सदस्य ने जैसे ही पैरावट में टार्च दिखाई, सामने बिखरे बाल के साथ लड़की औंधे मुंह पड़ी हुई नजर आई। ठाकुर ने बताया वह घबराकर पीछे गिर सा गया, जनपद सदस्य ने संभाला और पूछा क्या हुआ। तब मैंने उनसे कहा कुछ है देखो क्या है? इसके बाद उन्होंने देखा तो सामने बच्ची का शव मिला। इसके बाद पुलिस बुलाई गई, तो बच्ची की चप्पल, कपड़े व घटना को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल किया गया पत्थर मिला। पता चला घटना के बाद बच्ची ने रेप की बात अपने घर वालों को बताने की धमकी दी। इससे डरकर आरोपी ने पत्थर से सिर कुचलकर हत्या कर दी।

साढ़े 7 बजे से गायब थी बच्ची
मृतका के चाचा ने बताया कि वह 5-6 बजे नवधा रामायण के लिए कलश यात्रा में शामिल होने अपने घर से बहनों के साथ निकली। लगभग 7.30 बजे वह बहनों को शौच जाने की बात कहकर नवधा रामायण स्थल से घर की तरफ बढ़ी। इसके बाद वह गायब हो गई तथा खोजबीन के बाद उसका शव रात करीब 12.45 बलराम बरगाह के खलिहान में मिला।

छह माह पहले लड़की लेकर भोपाल भाग गया था आरोपी
परिजनों ने बताया कि आरोपी इससे पहले गांव की ही एक लड़की को भगा कर भोपाल ले गया था। तब लड़की के घर वाले उसे वहां से ले आए थे। विवाद न हो इसलिए लड़के के घर वालों ने उसे भगा दिया था। लौटकर आया तो वारदात को अंजाम दे दिया। वह और उसके पिता गुपचुप व चाट का ठेला चलाते हैं। घटना के दिन भी आरोपी ने ठेला लगाया था। इसके बाद वह कार्यक्रम में शामिल हुआ। यहां उसने दोस्तों के साथ छककर शराब पी थी।

आरोपी का नाम भी अनाउंस हुआ था

मृतका के चाचा ने बताया कि रामायण स्थल से आरोपी की मां ने रात लगभग 8.45 बजे लाउड स्पीकर से एनाउंस करवाया था कि उसका 21 वर्षीय बेटा गायब हो गया है। 2-3 मर्तबा एनाउंस कराने के बाद पता चला की आरोपी घर लौट गया है। इस पर गांव के लोगों को उस पर संदेह हुआ। बच्ची भी गायब थी, आरोपी से पूछताछ के बाद शक हुआ तो कोठार में तलाशा।

जहां वारदात हुई- वहां घसीटने के निशान और खून अब मौजूद है। जहां वारदात हुई- वहां घसीटने के निशान और खून अब मौजूद है।
X
गांव वालों ने दिखाया घटना स्थल। कोठार के बाहर काफी दूर तक घसीटने के निशान हैं और अंदर खून के धब्बे भी दिख रहे थे।  फोटो: पवन सोनीगांव वालों ने दिखाया घटना स्थल। कोठार के बाहर काफी दूर तक घसीटने के निशान हैं और अंदर खून के धब्बे भी दिख रहे थे। फोटो: पवन सोनी
जहां वारदात हुई- वहां घसीटने के निशान और खून अब मौजूद है।जहां वारदात हुई- वहां घसीटने के निशान और खून अब मौजूद है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..