--Advertisement--

हेलिकॉप्टर से पहुंची शहीद की पार्थिव देह, देखकर परिवार का हुआ विचलित

सुबह से ही नम आंखों से रास्ते में इंतजार में खड़े स्कूली स्टूडेंट्स ने शहीद पर फूल बरसाए।

Dainik Bhaskar

Jan 26, 2018, 04:20 AM IST
शहीद का शव देखकर विचलित परिजन को संभालते लोग। शहीद का शव देखकर विचलित परिजन को संभालते लोग।

बिलासपुर. नक्सली हमले में नारायणपुर के अबूझमाड़ के जंगल में शहीद हुए सीपत के एसआई विनोद कौशिक का गुरुवार को उसके गांव में अंतिम संस्कार हुआ। उन्हें श्रद्धांजलि देने लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। शुक्रवार की दोपहर करीब एक बजे शहीद का पार्थिव शव सीपत पहुंचा। इसे नारायणपुर से हेलीकॉप्टर से बिलासपुर एसईसीएल हेलीपेड लाया गया। साथ में कोरबा के शहीद चंद्रकांत का भी शव था। हेलीपेड से शव को सड़क मार्ग से सीपत लाया गया। सीपत में एनटीपीसी संयंत्र के पास से शव को जुलूस के रूप में नवाडीह चौक,मटेरियल चौक से होते हुए पुराना बस स्टैंड तक उसके घर ले जाया गया। रास्तेभर विनोद के नाम पर जयकारे लगते रहे। घर में अंतिम दर्शन के लिए शव को रखा गया। फिर यहां से अंतिम यात्रा शुरू हुई।

पत्नी पूरे समय शव से लिपटकर रोती रही

पिता उमाशंकर कौशिक माता बृहस्पति देवी और भाई वीरेंद्र कौशिक से रहा नहीं गया। उनका आंसू थम नहीं पा रहा था। पड़ोसी उनके श्री उमाशंकर के सिर पर चक्कर की वजह से पानी डालते रहे। पत्नी पूरे समय पर शहीद के शव से लिपटकर रोती रही।

मां को भनक लग गई थी

विनोद की मां वृहस्पति बाई अपने मायके गई हुई थी। सुबह उन्हें विनोद का साथी लेने गया। उसने विनोद के पैर में गोली लगने व रायपुर में भर्ती होने की बात कही। वह सीपत पहुंचीं तो उन्हें घर की ओर ले जाने लगा तो वह समझ गईं कि कुछ गड़बड़ है। घर आने पर बताया गया तो वह बिलख पड़ीं।

स्टूडेंट्स ने बरसाए फूल
जुलूस के दौरान रास्ते में स्कूली छात्र छात्राओं ने शहीद विनोद कौशिक के पार्थिव शरीर पर फूल बरसाए। सुबह से ही सभी इंतजार में खड़े हुए थे। इस दौरान उनकी आंखें नम रही।

शहीद विनोद कौशिक अपनी पत्नी और बेटे के साथ। - फाइल फोटो शहीद विनोद कौशिक अपनी पत्नी और बेटे के साथ। - फाइल फोटो
शहीद विनोद कौशिक। शहीद विनोद कौशिक।
शहीद जवानों के ताबूतों को आईजी ने दिया कंधा, कई बड़े अफसर भी पहुंचे नारायणपुर। शहीद जवानों के ताबूतों को आईजी ने दिया कंधा, कई बड़े अफसर भी पहुंचे नारायणपुर।
2013 में एसआई बने विनोद ने नक्सलियों से लड़ते दी शहादत। 2013 में एसआई बने विनोद ने नक्सलियों से लड़ते दी शहादत।
शहीद विनोद को श्रद्धांजलि देने उमड़े ग्रामीण। बेटे को संभालते उसके दादा। शहीद विनोद को श्रद्धांजलि देने उमड़े ग्रामीण। बेटे को संभालते उसके दादा।
शहीद विनोद के दोस्त बोले- बहादुरी के हम थे कायल, अब शहादत पर देश को है गर्व। शहीद विनोद के दोस्त बोले- बहादुरी के हम थे कायल, अब शहादत पर देश को है गर्व।
शहीद विनोद की मां को बेटे की पैर में गोली लगने की जानकारी देकर मायके से बुलाया गया था। शहीद विनोद की मां को बेटे की पैर में गोली लगने की जानकारी देकर मायके से बुलाया गया था।
शहीद विनोद कौशिक को गार्ड आॅफ आॅनर दिया गया। शहीद विनोद कौशिक को गार्ड आॅफ आॅनर दिया गया।
बुधवार को नारायणपुर में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ में जख्मी जवान। बुधवार को नारायणपुर में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ में जख्मी जवान।
X
शहीद का शव देखकर विचलित परिजन को संभालते लोग।शहीद का शव देखकर विचलित परिजन को संभालते लोग।
शहीद विनोद कौशिक अपनी पत्नी और बेटे के साथ। - फाइल फोटोशहीद विनोद कौशिक अपनी पत्नी और बेटे के साथ। - फाइल फोटो
शहीद विनोद कौशिक।शहीद विनोद कौशिक।
शहीद जवानों के ताबूतों को आईजी ने दिया कंधा, कई बड़े अफसर भी पहुंचे नारायणपुर।शहीद जवानों के ताबूतों को आईजी ने दिया कंधा, कई बड़े अफसर भी पहुंचे नारायणपुर।
2013 में एसआई बने विनोद ने नक्सलियों से लड़ते दी शहादत।2013 में एसआई बने विनोद ने नक्सलियों से लड़ते दी शहादत।
शहीद विनोद को श्रद्धांजलि देने उमड़े ग्रामीण। बेटे को संभालते उसके दादा।शहीद विनोद को श्रद्धांजलि देने उमड़े ग्रामीण। बेटे को संभालते उसके दादा।
शहीद विनोद के दोस्त बोले- बहादुरी के हम थे कायल, अब शहादत पर देश को है गर्व।शहीद विनोद के दोस्त बोले- बहादुरी के हम थे कायल, अब शहादत पर देश को है गर्व।
शहीद विनोद की मां को बेटे की पैर में गोली लगने की जानकारी देकर मायके से बुलाया गया था।शहीद विनोद की मां को बेटे की पैर में गोली लगने की जानकारी देकर मायके से बुलाया गया था।
शहीद विनोद कौशिक को गार्ड आॅफ आॅनर दिया गया।शहीद विनोद कौशिक को गार्ड आॅफ आॅनर दिया गया।
बुधवार को नारायणपुर में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ में जख्मी जवान।बुधवार को नारायणपुर में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ में जख्मी जवान।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..