Hindi News »Chhatisgarh »Bilaspur» Moolchand Kanwar Martyr Naxalite Ambush

कॉलेज प्रोफेसर से 1 साल पहले की थी शादी, यहां हमले में ऐसे शहीद हुआ ये जवान

नक्सलियों को पता था कि फोर्स अबूझमाड़ में बड़ा ऑपरेशन लाॅन्च करेंगे।

दिनेश राज | Last Modified - Jan 25, 2018, 04:42 AM IST

  • कॉलेज प्रोफेसर से 1 साल पहले की थी शादी, यहां हमले में ऐसे शहीद हुआ ये जवान
    +5और स्लाइड देखें
    शहीद मूलचंद सिंह कंवर की शादी के दौरन की तस्वीर।

    कोरबा.बुधवार को नारायणपुर में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ में शहीद हुए एसआई मूलचंद सिंह कंवर की शादी अप्रैल 2017 में इंद्रप्रभा कंवर से हुई थी, जो इन दिनों पॉलिटेक्निक काॅलेज जांजगीर में प्रोफेसर है। मूलचंद मई 2016 से नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले में पोस्टेड थे। परिवार वाले मूलचंद को ट्रांसफर करवाकर आसपास जिले में पोस्टिंग करवाने को कहते थे।

    घरवालों को नहीं बताई गई है बेटे के शहीद होने की बात

    - कटघोरा ब्लाक के कुसमुंडा थाना अंतर्गत स्थित घनाडबरी गांव में अभी उसके शहीद होने की खबर आम नहीं हुई है। पुलिस रात को लगभग 9 बजे वहां पहुंची और मूलचंद के माता-पिता व कुछ रिश्तेदारों को साथ लेकर नारायणपुर रवाना हो गई है। अभी उनके माता-पिता को उसके मुठभेड़ में घायल होने की बात ही कही गई है।

    पहले से तैयार थे नक्सली, पता था जवान अबूझमाड़ में यहीं से आएंगे

    नक्सलियों के बड़े लीडर गणतंत्र दिवस के बहिष्कार के संबंध में रणनीति पर विचार के लिए लिए यहां जुटे थे। नक्सलियों को पता था कि इसकी खबर फोर्स तक पहुंचेगी और जवान अबूझमाड़ में बड़ा ऑपरेशन लांच करेंगे। यही कारण है कि बड़े नेताओं की सुरक्षा में पहली लेयर में कई मिलिट्री कमीशन के मेंबरों को भी तैनात रखा गया था। पुलिस सूत्रों की मानें तो जैसे ही जवानों और नक्सलियों का आमना सामना हुआ तो नक्सलियों ने अंधाधुंध गोलियां तो बरसाई ही साथ में एक बड़ा बलास्ट भी किया। बताया जा रहा है कि ब्लास्ट के कारण ही जवानों को ज्यादा नुकसान हुआ है।

    बहन के साथ रहकर की थी सिलेक्शन की तैयारी

    - किसान बंधन सिंह कंवर उनकी पत्नी मंगधन बाई अपने परिवार के साथ रहते हैं। उनकी दो बड़ी बेटी के बाद तीसरे नंबर का मूलचंद सिंह कंवर पुत्र है। मूलचंद के बाद उनके तीन बेटे और हैं।

    - मिडल स्कूल घनाडबरी में 8वीं तक उसके साथ पढ़ने वाले सत्यम दास ने बताया कि मूलचंद शुरू से पढाई में तेज था। उसके बड़े जीजाजी जो एसईसीएल ढेलवाडीह में सर्विस करते थे के निधन होने पर वह अपनी बहन के साथ रहने लगा। जिसे एसईसीएल में अनुकंपा नियुक्ति पति के स्थान पर मिली थी। उसने कटघोरा कॉलेज से ग्रैजुएशन किया। बाद में वह शिक्षाकर्मी चयनित हुआ और उसकी पदस्थापना पोड़ी-उपरोड़ा विकासखंड के मिडल स्कूल हरदेवा में हुई।

    - वह आगे बढ़ने के लिए सतत प्रयास करता था। उसने एसआई की वैकेंसी निकलने पर बिलासपुर से कोचिंग ली और उसका सिलेक्शन 2016 में हो गया। 13 दिसंबर को उसका जन्मदिन था। उसके आसपास ही उससे उसकी बात हुई थी। वह काफी मिलनसार और स्पोर्टी नेचर का था। दोस्तों से वह जुड़ा रहता था।

  • कॉलेज प्रोफेसर से 1 साल पहले की थी शादी, यहां हमले में ऐसे शहीद हुआ ये जवान
    +5और स्लाइड देखें
    बताया जा रहा है कि ब्लास्ट के कारण ही जवानों को ज्यादा नुकसान हुआ है।
  • कॉलेज प्रोफेसर से 1 साल पहले की थी शादी, यहां हमले में ऐसे शहीद हुआ ये जवान
    +5और स्लाइड देखें
    शहीद एसआई मूलचंद कंवर।
  • कॉलेज प्रोफेसर से 1 साल पहले की थी शादी, यहां हमले में ऐसे शहीद हुआ ये जवान
    +5और स्लाइड देखें
    बुधवार को नारायणपुर में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ में जख्मी जवान।
  • कॉलेज प्रोफेसर से 1 साल पहले की थी शादी, यहां हमले में ऐसे शहीद हुआ ये जवान
    +5और स्लाइड देखें
    नारायणपुर में नक्सली हमले में 4 जवान शहीद हो गए आैर 11 घायल हो गए।
  • कॉलेज प्रोफेसर से 1 साल पहले की थी शादी, यहां हमले में ऐसे शहीद हुआ ये जवान
    +5और स्लाइड देखें
    एनकाउंटर के दौरान दोनों ओर से जमकर गोलीबारी हुई और आईडी भी ब्लास्ट हुआ।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bilaspur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Moolchand Kanwar Martyr Naxalite Ambush
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bilaspur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×