बिलासपुर

  • Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • विवाद: मेयर से तकरार के बाद उदय ने दी एमआईसी से इस्तीफे की धमकी
--Advertisement--

विवाद: मेयर से तकरार के बाद उदय ने दी एमआईसी से इस्तीफे की धमकी

मेयर किशोर राय के साथ एमआईसी मेंबरों की कड़वाहट बढ़ती ही जा रही है। होली के एक दिन पूर्व गुरुवार को दोपहर बुलाई गई...

Danik Bhaskar

Mar 02, 2018, 02:15 AM IST
मेयर किशोर राय के साथ एमआईसी मेंबरों की कड़वाहट बढ़ती ही जा रही है। होली के एक दिन पूर्व गुरुवार को दोपहर बुलाई गई बैठक में एमआईसी मेंबरों ने अपनी बात रखने की कोशिश की। मुद्दा था अतिक्रमण निवारण अमले के सेवानिवृत्त प्रभारी प्रमिल शर्मा को संविदा पर नियुक्त करने का। जैसे ही यह प्रस्ताव रखा गया, उदय मजूमदार ने इसका विरोध शुरू कर दिया। जनकार्य प्रभारी उमेशचंद्र कुमार भी समर्थन में उतरे। प्रकाश यादव ने मेज थपथपा कर अपना समर्थन जताया। शर्मा के क्रियाकलापों को लेकर एकाएक विरोध का माहौल खड़ा हो गया।

मेयर किशोर राय ने हस्तक्षेप करते हुए रोकने की कोशिश की। इस पर बात इतनी बढ़ी कि नाराज उदय मजूमदार ने एमआईसी में अपनी बात नहीं रखने देने पर पद से इस्तीफा देने की धमकी दे डाली। मामला पूरी तरह बिगड़ गया। माहौल को शांत करने के लिए वहां मौजूद सभापति अशोक विधानी को सदन की तरह सदस्यों को समझाना पड़ा। इस पर भी बात नहीं बनी और उदय मजूमदार संविदा नियुक्ति के प्रस्ताव पर अपना विरोध दर्ज करवा कर ही माने।

अतिक्रमण निवारण अमले के रिटायर प्रभारी की संविदा नियुक्ति के प्रस्ताव पर उभरे विरोध के स्वर

एमआईसी की बैठक में मेयर किशोर राय व एमआईसी मेंबर।

मेयर बोले सुनो, सुनो.. नहीं सुनना है तो बाहर जाओ, झगड़ा बढ़ा

बैठक के 19 प्रस्ताव आसानी से पास हो गए। जैसे ही प्रस्ताव क्रमांक 20 रखा गया, उदय बोल पडे़। शर्मा किसी की सुनता नहीं है, उसे नहीं रखना चाहिए। कई लोगों ने उसके रवैए के खिलाफ भड़ास निकाली। शांत करने की गरज से मेयर बोले सुनो सुनो..। उदय के साथ प्रकाश यादव ने सहमति जताई तथा मेज थपथपाते समर्थन किया। इस पर मेयर और भड़क गए। उन्होंने कहा कि धीरे बोलो। नाराज मेयर ने फिर सुनने कहा और गुस्से कह गए कि जिसे नहीं सुनना है, वह बाहर चले जाए। झल्लाए उदय ने कहा कि एमआईसी में क्या हम बोल नहीं सकते? जिस एमआईसी में हमको बोलने का अधिकार नहीं है, उसमें हमें नहीं रहना है। मैं बाहर जाऊंगा और इस्तीफा देकर। उन्होंने इस्तीफा लिखने के लिए कागज मंगाया। कमिश्नर सौमिलरंजन सहित अन्य अफसरों के सामने किरकिरी होने के बाद सभापति अशोक विधानी ने उदय को समझाने की कोशिश की। इस्तीफे की बात को रोका गया।

सदस्यों की राय का सम्मान करते हैं: मेयर किशोर राय ने बैठक में विवाद से इनकार किया। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रस्ताव पर सहमति, असहमति हो सकती है। चर्चा के लिए ही बैठक बुलाई जाती है। वह सदस्यों की राय का सम्मान करते हैं। प्रस्ताव क्रमांक 20 पारित कर दिया गया है।

उदय ने मेयर को कहा-हमारी बदौलत जीतकर आए हैं

बताया जाता है कि विवाद बढ़ने पर उदय ने मेयर को यहां तक कह दिया कि वह उनकी बदौलत चुनाव जीतकर आए हैं। मनमाने प्रस्ताव पास करना है, तो उन्हें ऐसी एमआईसी में नहीं रहना है। दैनिक भास्कर से बातचीत में उदय ने स्वीकार किया कि मेयर से बैठक में उनका विवाद हुआ। उन्होंने कहा कि वह अपनी बात रखना चाहते थे। प्रस्ताव पर अपना विरोध दर्ज करा आए हैं। उन्होंने खेद व्यक्त किया कि पूर्व में शिकायतों के आधार पर लाल मैडम को हटाने की बात बैठक में रखी गई थी, परंतु इस पर अमल नहीं हुआ।

ये था प्रस्ताव: एजेंडा क्रमांक 20 में प्रमिल शर्मा सेवानिवृत्त प्रबंधक नगर पालिक निगम को कार्यालय अधीक्षक के रिक्त पद पर संविदा नियुक्ति देने का प्रस्ताव रखा गया। इसके लिए साल भर तक रिक्त पद की पूर्ति नहीं होने तथा संविदा नियम व प्रावधान का तर्क दिया गया।

Click to listen..