• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • सारनाथ के पेंटो में फंसकर आेएचई टूटा गेवरा में भी ब्रेक डाउन, पांच ट्रेनें खड़ी रहीं
--Advertisement--

सारनाथ के पेंटो में फंसकर आेएचई टूटा गेवरा में भी ब्रेक डाउन, पांच ट्रेनें खड़ी रहीं

बिलासपुर-कटनी सेक्शन और बिलासपुर कोरबा सेक्शन में ओएचई ब्रेक डाउन होने से पांच से अधिक ट्रेनें अलग-अलग स्टेशनों...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:15 AM IST
बिलासपुर-कटनी सेक्शन और बिलासपुर कोरबा सेक्शन में ओएचई ब्रेक डाउन होने से पांच से अधिक ट्रेनें अलग-अलग स्टेशनों में खड़ी रही। बिलासपुर कटनी मार्ग पर डाउन लाइन बुरी तरह से प्रभावित हुआ। कोरबा-चांपा के बीच ओएचई ब्रेक डाउन होने से शिवनाथ एक्सप्रेस दो घंटे विलंब से बिलासपुर पहुंची।

छपरा-दुर्ग सारनाथ एक्सप्रेस 14 घंटे विलंब से शाम 5 बजे के लगभग घुटकू रेलवे स्टेशन पार की थी उसी समय उसका पेंटो टूटकर ओएचई में उलझ गया। ओएचई के टूटते ही कटनी-बिलासपुर के बीच ट्रेनें अस्त व्यस्त हो गईं। समय से चल रही भगत की कोठी-विशाखापट्नम एक्सप्रेस को अनूपपुर में रोक दिया गया। इसके आगे-अागे चल रही इंदौर-बिलासपुर नर्मदा एक्सप्रेस को बेलगहना रेलवे स्टेशन पर रोका गया। इसके आगे चल रही बरौनी-गोंदिया एक्सप्रेस को करगीरोड रेलवे स्टेशन पर रोके रखा गया। इलेक्ट्रिकल विभाग की टीम को तत्काल मौके पर रवाना किया गया। आंधी-पानी की वजह से थोड़ी परेशानी अवश्य हुई इसकी वजह से ओएचई सुधारने में लगभग पौने दो घंटे लगे। तब तक ट्रेनेंं अलग-अलग जगहों पर खड़ी रही। इसकी वजह से यात्रियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। आंधी-तूफान की वजह से ट्रेन में सवार जनता वैसे भी परेशान थी। नर्मदा एक्सप्रेस बेलगहना रेलवे स्टेशन पर खड़ी थी इसके यात्री सबसे ज्यादा परेशान हुए। रात 7.30 बजे कटनी रेल मार्ग के डाउन लाइन पर यातायात शुरू हो सका। इसके बाद अलग-अलग स्टेशनों में खड़ी ट्रेनों को आगे रवाना किया गया। सभी ट्रेने एक से डेढ़ विलंब से गंतव्य को पहुंची। दूसरी ओर बिलासपुर कोरबा सेक्शन में कोरबा और चांपा के बीच ओएचई में मालगाड़ी के इंजन के पेंटो में तिरपाल फंसने की वजह से दो घंटे यातायात प्रभावित रहा।

विलंब से रवाना हुई ट्रेनें

1 अप्रैल को दुर्ग से छूटने वाली सारनाथ एक्सप्रेस को विलंब से पहुंचने की वजह से रात 1.00 बजे दुर्ग से व गोंदिया से छूटने वाली गोंदिया-बरौनी एक्सप्रेस को रात 12.30 बजे के बाद गोंदिया से रवाना किया गया।