• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • कृषि विभाग ने किया फसल बीमा का आकलन 789 गांवों के लोगों को मिलेगा क्लेम
--Advertisement--

कृषि विभाग ने किया फसल बीमा का आकलन 789 गांवों के लोगों को मिलेगा क्लेम

प्रशासनिक रिपोर्टर | बिलासपुर कृषि विभाग ने फसल बीमा का आंकलन किया है और रिपोर्ट तैयार इसकी जानकारी अपर कलेक्टर...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:20 AM IST
प्रशासनिक रिपोर्टर | बिलासपुर

कृषि विभाग ने फसल बीमा का आंकलन किया है और रिपोर्ट तैयार इसकी जानकारी अपर कलेक्टर के पास भेज दी है। हालांकि अब तक बीमा कंपनी बीमा से संबंधित मूल्यांकन रिपोर्ट जिला प्रशासन या कृषि विभाग को नहीं दी है।

इस बार जिले में सूखे की स्थिति रही। जिले में 45 पैसा आनावारी आई। बिल्हा और मरवाही तहसील सर्वाधिक प्रभावित रही। जिले के 84,803 किसान सूखे की चपेट में आए और उनकी 60,908 हेक्टेयर में लगी धान की फसल को क्षति पहुंची। किसानों को 47.85 करोड़ रुपए मुआवजा देना तय किया गया। फसल बीमा की रकम किसानों को कंपनी द्वारा अलग से देने की बात कही गई। लेकिन खरीफ सीजन में जिले के 62 हजार 550 किसानों से 6 करोड़ 63 लाख 76 हजार 331 रुपए प्रीमियम लेकर उनकी फसल का बीमा करने वाली कंपनी अब तक क्लेम की रकम तय नहीं कर पाई है। हद तो ये है कि बीमा संबंधित जानकारी नहीं देने की वजह से लोक सुराज के सैकड़ों आवेदनों का निराकरण नहीं हो पा रहा है। अपर कलेक्टर ने बीमा कंपनी के क्षेत्रीय प्रबंधक को पत्र लिखा। इससे पहले कलेक्टर की 15 चिट्ठियों के बाद भी क्षेत्रीय प्रबंधक टीएल मीटिंग में नहीं आए। मुख्य सचिव की वीडियो कांफ्रेंसिंग में भी नहीं पहुंचे। कृषि विभाग के उप संचालक आरजी अहिरवार ने भू-अभिलेख के साथ मिलकर बीमा का आंकलन किया है। इसके मुताबिक 789 गांवों के किसानों को बीमा का क्लेम मिलना चाहिए। विभाग ने क्षतिपूर्ति राशि का आंकलन भी किया है। इसके मुताबिक 24 लाख 63 हजार 895 रुपए बिल्हा तहसील में किसानों को मिलेंगे। जबकि बिलासपुर तहसील में 2 लाख 13 हजार 643 रुपए मिलेंगे। मस्तूरी में 39 लाख 80 हजार 938 रुपए किसानों को क्लेम के तौर पर मिलेंगे। तखतपुर में 20 लाख 58 हजार 773 रुपए तो कोटा तहसील में 10 लाख 87 हजार 292, पेंड्रा तहसील में 5 लाख 87 हजार 580 रुपए, पेंड्रारोड में 5 लाख 93 हजार 480 रुपए, 20 लाख 18 हजार 194 रुपए बीमा क्लेम मिलना चाहिए। उप संचालक अहिरवार ने बताया कि आंकलन रिपोर्ट अपर कलेक्टर केडी कुंजाम के पास भेज रहे हैं। बीमा कंपनी से अभी तक मूल्यांकन रिपोर्ट नहीं आई है।