• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • मसीहियों ने कैंडल जलाकर गाई यीशु की गाथा, धूमधाम से मना ईस्टर संडे
--Advertisement--

मसीहियों ने कैंडल जलाकर गाई यीशु की गाथा, धूमधाम से मना ईस्टर संडे

ईस्टर संडे के अवसर पर डिसाईपल्स ऑफ ख्राईष्ट चर्च सिविल लाइन में अाराधना करते हुए। प्राचीन समिति सीएमडी चौक में...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:20 AM IST
ईस्टर संडे के अवसर पर डिसाईपल्स ऑफ ख्राईष्ट चर्च सिविल लाइन में अाराधना करते हुए। प्राचीन समिति सीएमडी चौक में पास्टर संदेश देते हुए।

सिटी रिपोर्टर | बिलासपुर

गुड फ्राइडे के तीसरे दिन प्रभु यीशु के मृत्यु पर जीत की खुशी में मसीहीजनों ने पास्का रविवार (ईस्टर संडे) हर्षोल्लास से मनाया। शनिवार की मध्य रात प्रभु यीशु के पुन: जीवित होने की खुशी मसीही समुदाय में रही। देर रात तक गिरजाघरों में वाचा की प्रार्थना का दौर चलता रहा। रविवार की भोर में कब्रिस्तान में दफन अपनों के धरती पर दुबारा अवतरण के लिए मोमबत्ती जलाई गई। वहीं ईस्टर संडे की सुबह चर्च में हुई पुनरुत्थान पर्व की आराधना में समुदाय के लोग शामिल होते हुए खुशी का इजहार किए। मसीही समाज के लोगों बताया गया कि यीशु ने जैसी भविष्यवाणी की थी, उसी के अनुसार मृत्यु पर विजय प्राप्त की। कोई भी इंसान दुख झेलना नहीं चाहता है। ईशा ने दुख का रास्ता चुनकर इंसान के प्रति ईश्वर के प्रेम का प्रमाण दिया है। इस दौरान देर रात तक विविध धार्मिक आयोजन चलते रहे। डिसाईपल्स ऑफ ख्राईष्ट चर्च सिविल लाइन, चर्च ऑफ ख्राईष्ट सीएमडी चौक निर्वाचित प्राचीन समिति व चर्च आफ ख्राईष्ट मिशन इन इंडिया सहित शहर के विभिन्न चर्चों में रविवार को प्रभु यीशु के पुनरुत्थान की आराधना हुई। इसके पूर्व अल सुबह समीप के कब्रिस्तान (जरहाभाठा) सहित अन्य में दफन अपनों के कब्र पर मोमबत्ती जलाकर उनके भी पुन: जीवित होने की कामना की गई। ईसाई धर्मावलंबियों ने प्रभु यीशु के पुनरुत्थान की खुशी एक दूसरे से गले मिलकर मनाया। चर्च ऑफ सीएमडी चौक में पास्टर सुदेश पॉल के नेतृत्व में सुबह 10 बजे से अराधना हुई। बाइबिल का पाठ किया गया। इसी प्रकार से डिसाईपल्स ऑफ ख्राईष्ट चर्च सिविल में आराधनालय में ईस्टर संडे की आराधना की गई। बच्चों के द्वारा गीत-संगीत व नृत्य की प्रस्तुति दी गई। इस तरह से शहर के प्रत्येक चर्च में कार्यक्रम आयोजित हुआ।