--Advertisement--

छत्तीसगढ़ टीम एमपी से हारी

स्पोर्ट्स रिपोर्टर | बिलासपुर बीसीसीआई के महिला सेंट्रल जोन क्रिकेट टूर्नामेंट में गुरुवार को छत्तीसगढ़ की टीम...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 02:20 AM IST
स्पोर्ट्स रिपोर्टर | बिलासपुर

बीसीसीआई के महिला सेंट्रल जोन क्रिकेट टूर्नामेंट में गुरुवार को छत्तीसगढ़ की टीम को हार का सामना करना पड़ा। मध्यप्रदेश ने छत्तीसगढ़ को 7 विकेट से हराया। भिलाई के बीएसपी क्रिकेट ग्राउंड में खेले जा रहे मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के मैच में टॉस जीतकर छत्तीसगढ़ की टीम ने बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर 142 रन बनाए। मध्यप्रदेश को जीत के लिए 143 रनों का लक्ष्य दिया। छत्तीसगढ़ की कॉजल मेश्राम ने 49 और मनप्रीत कौर ने नाबाद 41 रनों की संघर्षपूर्ण पारी खेली। जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी मध्यप्रदेश की टीम ने 3 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। मध्यप्रदेश की कप्तान तरंग झा ने 50 रन और तमन्ना निगम ने नाबाद 57 रनों की पारी खेल कर टीम को जीत दिलाई। मध्यप्रदेश ने 37.2 ओवर में लक्ष्य हासिल किया।

अलगा मैच कल यूपी के साथ

छत्तीसगढ़ की महिला टीम अब तक चार मैच खेल चुकी है। जिसमें राज्य की टीम ने सिर्फ पहले मैच में ही उत्तर प्रदेश के खिलाफ 8 विकेट से जीत दर्ज की थी। उसके बाद से टीम लगातार तीन मैच हार चुकी है। वहीं एमपी की टीम चार मैच में दो जीत और दो हार के साथ खेल रही है। छत्तीसगढ़ का अगला मैच 3 मार्च को उत्तरप्रदेश के साथ होगा तो मध्यप्रदेश का राजस्थान के साथ होगा। दोनों ही टीमों का ये आखिरी लीग मैच है। सभी टीम को पांच-पांच मैच खेलने थे।

काजल ने 49 और मनप्रीत ने नाबाद 41 रनों की पारी खेली

मैच के दौरान बैटिंग करती प्रदेश टीम की खिलाड़ी।

कप्तान शिवि का नहीं चला बल्ला

पूरे टूर्नामेंट में शानदार फार्म में चल रहीं छत्तीसगढ़ की कप्तान शिवि पांडेय ने गुरुवार के मैच में निराश किया। शिवि और शिल्पा साहू ने पारी की शुरुआत की। कप्तान पांडेय 7.6 ओवर में 21 गेंद में ही सिर्फ 3 रन बनाकर आउट हो गई। शिवि के आउट होने के बाद दीपिका तिवारी बैटिंग के लिए आई लेकिन वे भी रन बनाने में असफल रही। दीपिका 47 गेंद में 7 रन बनाकर आउट हुई। उसके बाद टीम का तीसरा विकेट शिल्पा साहू के रूप में गिरा। शिल्पा ने 32 रनों की पारी खेली। इस दौरान छत्तीसगढ़ का स्कोर 3 विकेट पर 60 रन था।

एमपी की 9 गेंदबाजों ने की बॉलिंग

पहले गेंदबाजी कर रही मध्यप्रदेश की टीम ने इस सीरीज में शानदार वापसी की है। छत्तीसगढ़ के खिलाफ एमपी के गेंदबाजों ने कसी हुई बॉलिंग की। टीम केे 9 बॉलर ने बॉलिंग की। इस दौरान गेंदबाजों ने छत्तीसगढ़ को पूरी तरह बांध कर रखा। टीम की प्रीति यादव ने 9 ओवर में 16 रन देकर 2 विकेट और अंशुला राव ने 6 ओवर में 12 रन देकर 1 विकेट हासिल किया। बाकि के किसी भी गेंदबाज को सफलता नहीं मिली।

रणवीर सिंह ने कहा...

चाैथे विकेट के लिए 82 रन जोड़े

60 रनों पर तीन विकेट गिरने के बाद छत्तीसगढ़ की टीम पूरी तरह दवाब में आ गई। पांचवे नंबर पर मनप्रीत ने आकर पारी को संभाला और चौथे विकेट के लिए नाबाद 82 रनों की साझेदारी की। इस दौरान काजल ने 76 गेंद में 49 रन बनाए। कॉजल एक रनों से अपना अर्धशतक पूरा करने से चूक गई। वहीं मनप्रीत ने 62 गेंदों में 41 रन बनाए। दोनों ही खिलाड़ियों की बदौलत छत्तीसगढ़ की टीम 142 रन का स्कोर खड़ा कर सकी।

शाहरुख़ साहब से मेरी तुलना नहीं की जानी चाहिए...

रणवीर सिंह इन दिनों जोया अख्तर की फिल्म ‘गली बॉय’ की शूटिंग में बिजी हैं। फिल्म की शूटिंग जोरों से चल रही है और हाल ही में उन्हाेंने फिल्म का एक गाना शूट किया है। इस बातचीत में रणवीर ने अपनी जर्नी, नेक्स्ट प्रोजेक्ट और कई मुद्दों पर चर्चा की...

र णबीर से जब पूछा गया कि क्या ‘पद्मावत’ से ‘गली बॉय’ के किरदार में ढलना मुश्किल था? तो उन्होंने जवाब दिया, ‘अगर आप अपने काम के प्रति एक्साइटेड हैं तो वह आपके लिए बिल्कुल भी मुश्किल नहीं होता। जिस दिन मैंने ‘पद्मावत’ की शूटिंग खत्म की थी उसी दिन से मैं ‘गली बॉय’ के बारे में सोचने लगा था। मेरे लिए यह फिल्म बेहद स्पेशल है। इस फिल्म के किरदारों से मैं खुद को जुड़ा हुआ पाता हूं। उनकी जिंदगी बहुत मुश्किलों से भरी है और इसी के बीच उन्होंने आर्ट को भी जगह दी है।’

फिल्म में एशिया के सबसे बड़े स्लम एरिया में रहने वाले म्यूजिशियन्स की कहानी दिखाई जाएगी। रणवीर इस फिल्म में एक रैपर का रोल प्ले कर रहे हैं और फिल्म के सभी गाने उन्होंने ही रैप किए हैं। वे कहते हैं, ‘फिल्म में उन्होंने एक म्यूजिक सीन बड़े ही निराले अंदाज में शुरू किया है। इसकी खासियत यह है कि यह बम्बइया लैंग्वेज में है। आपको कभी यहां के बच्चाें की राइटिंग पढ़नी चाहिए। ये 18 से 20 साल के बच्चे सिस्टम की खामियों पर सोशल कमेंट्री लिखते हैं। इसलिए मुझे बार-बार यह महसूस होता है कि मुझे वो सब करना चाहिए जो इन बच्चों को प्लेटफाॅर्म दिलाने के लिए किया जा सकता है।’

जहां इंडस्ट्री के बाकी सभी एक्टर्स डार्क कैरेक्टर निभाने से डरते हैं, वहीं रणवीर ने अलाउद्दीन खिलजी जैसा डार्क कैरेक्टर प्ले करने का फैसला किया। ठीक वैसे ही जैसे दो दशक पहले शाहरुख खान ने अपनी कई फिल्मों में किया था।

र णबीर से जब पूछा गया कि क्या ‘पद्मावत’ से ‘गली बॉय’ के किरदार में ढलना मुश्किल था? तो उन्होंने जवाब दिया, ‘अगर आप अपने काम के प्रति एक्साइटेड हैं तो वह आपके लिए बिल्कुल भी मुश्किल नहीं होता। जिस दिन मैंने ‘पद्मावत’ की शूटिंग खत्म की थी उसी दिन से मैं ‘गली बॉय’ के बारे में सोचने लगा था। मेरे लिए यह फिल्म बेहद स्पेशल है। इस फिल्म के किरदारों से मैं खुद को जुड़ा हुआ पाता हूं। उनकी जिंदगी बहुत मुश्किलों से भरी है और इसी के बीच उन्होंने आर्ट को भी जगह दी है।’

फिल्म में एशिया के सबसे बड़े स्लम एरिया में रहने वाले म्यूजिशियन्स की कहानी दिखाई जाएगी। रणवीर इस फिल्म में एक रैपर का रोल प्ले कर रहे हैं और फिल्म के सभी गाने उन्होंने ही रैप किए हैं। वे कहते हैं, ‘फिल्म में उन्होंने एक म्यूजिक सीन बड़े ही निराले अंदाज में शुरू किया है। इसकी खासियत यह है कि यह बम्बइया लैंग्वेज में है। आपको कभी यहां के बच्चाें की राइटिंग पढ़नी चाहिए। ये 18 से 20 साल के बच्चे सिस्टम की खामियों पर सोशल कमेंट्री लिखते हैं। इसलिए मुझे बार-बार यह महसूस होता है कि मुझे वो सब करना चाहिए जो इन बच्चों को प्लेटफाॅर्म दिलाने के लिए किया जा सकता है।’

जहां इंडस्ट्री के बाकी सभी एक्टर्स डार्क कैरेक्टर निभाने से डरते हैं, वहीं रणवीर ने अलाउद्दीन खिलजी जैसा डार्क कैरेक्टर प्ले करने का फैसला किया। ठीक वैसे ही जैसे दो दशक पहले शाहरुख खान ने अपनी कई फिल्मों में किया था।

इस बारे में रणवीर कहते हैं...,

‘मैं करीबन सात साल से इंडस्ट्री में हूं और इस दौरान लोगों ने कई बेसिस पर शाहरुख साहब से मेरी तुलना करने की कोशिश की। पर मुझे कभी नहीं लगता कि उनसे मेरी तुलना की जानी चाहिए। वो लिविंग लेजेंड हैं।’

 इस साल क्रिसमस पर (21 दिसंबर) शाहरुख खान की ‘जीरो’ और 28 दिसंबर को रणवीर िसंह की ‘सिंबा’ रिलीज होगी।