Hindi News »Chhatisgarh »Bilaspur» सिलेबस में शामिल होना चाहिए संगीत: मोहित चौहान

सिलेबस में शामिल होना चाहिए संगीत: मोहित चौहान

वर्तमान समय में संगीत प्रेमियों की कमी नहीं है। इंटरनेट के माध्यम से छोटे-छोटे स्थानों के युवा गाना गाकर उसे सोशल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:25 AM IST

सिलेबस में शामिल होना चाहिए संगीत: मोहित चौहान
वर्तमान समय में संगीत प्रेमियों की कमी नहीं है। इंटरनेट के माध्यम से छोटे-छोटे स्थानों के युवा गाना गाकर उसे सोशल साइट्स में अपलोड कर रहे हैं। इंटरनेट के माध्यम से अपने हुनर को पूरी दुनिया को दिखा रहे हैं। कई बार छात्र पढ़ाई साइंस करते हैं, लेकिन उनका पैशन संगीत होता है। अगर छात्रों के सिलेबस में संगीत शामिल कर दिया जाए तो वह पढ़ाई के साथ-साथ अपना पैशन भी हासिल करेंगे और वह अपने शहर और देश का नाम ऊंचा करेंगे। उक्त बातें रॉकस्टार मोहित चौहान ने एक होटल में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कही। बीसीआर इवेंट एंड एंटरटेनमेंट कंपनी रविवार को पुलिस मैदान में शहर का सबसे बड़ा सेलिब्रिटी लाइव इन म्यूजिक कंसर्ट किया है। इसमें रॉकस्टार मोहित चौहान हजारों दर्शकों के सामने अपने सुपरहिट गानों की प्रस्तुति दी। पत्रवार्ता में रॉकस्टार चौहान ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बारे में बहुत सुना हूं। यहां का कल्चर प्रसिद्ध है। दो बार फिल्म फेयर, सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार प्राप्त कर चुके रॉकस्टार चौहान ने कहा कि उन्हें बचपन से ही संगीत में रुचि थी। संगीत उन्हें गाॅड गिफ्टेड है। उनके दादा जी भी संगीत के शौकीन थे। उन्होंने कहा कि पढ़ाई तो उन्होंने साइंस से की लेकिन उनका पैशन संगीत था। उसे उन्होंने हासिल किया। उन्होंने कहा कि कभी संगीत सीखा नहीं, बल्कि प्रसिद्ध गायक जगजीत सिंह, मो. रफी, किशोर कुमार के गानों को रेडियो पर सुनते थे। मोहित ने बताया कि वह अपना रोल मॉडल किशोर कुमार को मानते हैं। उन्होंने बताया कि उनकी शुरुआती पढ़ाई संत जेवियर्स स्कूल, दिल्ली में हुई और आगे कि पढ़ाई हिमाचल प्रदेश से की जहां पर धर्मशाला कॉलेज से मास्टर ऑफ साइंस इन जियोलॉजी की डिग्री प्राप्त की। दिल्ली आकर वहां सिल्क रूट नाम का बैंड बनाया, 1996 में इस बैंड का पहला एलबम बूंद रिलीज हुआ। इस एलबम का एक गीत डूबा-डूबा ...बहुत हिट हुआ। उन्होंने बताया कि रामगोपाल की फिल्म रोड में पहली बार प्लेबैक गाया। उन्होंने रैप सांग के बारे में बताया कि इस सांग में लोग बहुत सारे संदेश देते हैं। वह अपनी समस्याओं से लेकर अन्य जानकारियां देते हैं, लेकिन अभी जो रैप सांग चल रहा है, उसमें टॉपिक का चयन नहीं हो रहा है।

रॉकस्टार ने कहा- युवा गाना गाकर उसे सोशल मीडिया में अपलोड कर रहे हैं यानी संगीत से लगाव बढ़ रहा है

सरकार को यहां के कलाकारों को देना चाहिए मंच

रॉकस्टार चौहान ने कहा कि फिल्मों में अभी छत्तीसगढ़ी फोक सांग अपनी जगह नहीं बनाई है। यूपी, बिहार और राजस्थान का फोक सांग पहुंचा है। यहां के सरकार को यहां के कलाकारों को आगे बढ़ाने के लिए नेशनल और इंटरनेशनल लेवल का मंच उपलब्ध कराना चाहिए। लोकल में एक फिल्म इंडस्ट्री भी होनी चाहिए। इससे यहां के कलाकारों को अपना हुनर दिखाने का मौका मिलेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bilaspur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×