• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • फीडबैक के पूरे 1400 अंक हमारे हुए अच्छी रैंक के लिए जनता ने की बड़ी मदद
--Advertisement--

फीडबैक के पूरे 1400 अंक हमारे हुए अच्छी रैंक के लिए जनता ने की बड़ी मदद

शहर में पिछले बुधवार से सफाई का सर्वे कर रही टीम 7 दिन बाद लौट गई। टीम ने पहले तीन दिन दस्तावेजों की जांच और फिर चार...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:25 AM IST
शहर में पिछले बुधवार से सफाई का सर्वे कर रही टीम 7 दिन बाद लौट गई। टीम ने पहले तीन दिन दस्तावेजों की जांच और फिर चार दिन शहर का निरीक्षण किया। देश के चार हजार से ज्यादा शहरों के इस सर्वे में नंबर 1 कौन रहेगा, इसकी अधिकृत घोषणा अप्रैल में होगी। केंद्र की टीम ने शहर में जो फीडबैक लिया, उसमें 96.74% लोगों ने सभी सवालों के जवाब पॉजिटिव दिए वहीं 3% ने सामान्य। चार दिन के सर्वे में कार्वी इंटरनेशनल ने 200 से ज्यादा स्थानों का निरीक्षण किया तथा ढाई हजार फोटोग्राफ्स लिए। मिट्‌टी तेल गली, अशोक नगर, पुराने बस स्टैंड, रिवर व्यू रोड से लेकर, ट्रेंचिंग ग्राउंड कछार, दोमुंहानी स्थित सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, सार्वजनिक शौचालयों सहित बगीचों में बनने वाली खाद, कर्मचारियों की स्थिति और लोगों की बातचीत के साथ टीम 8000 पेज के दस्तावेज भी साथ ले गई।

भास्कर ने की थी अपील: ‘दैनिक भास्कर’ ने शहरहित में जनसहयोग की अपील की थी। भास्कर विचार के जरिए स्वच्छता के यज्ञ में शामिल होने आदतों में बदलाव लाने, कचरा डस्टबिन में ही डालने, ज्यादा से ज्यादा स्वच्छता ऐप डाउनलोड कर उसका इस्तेमाल करने, जैसे कई सुझावों पर अमल करने कहा।

स्वच्छता के बाकी सिस्टम पर मिले मार्क्स भी होंगे अहम, अप्रैल में घोषित होगी रैंकिंग

नगर निगम का सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का निरीक्षण करते सर्वेक्षण टीम के सदस्य व निगम के अधिकारी।

जानिए रैंकिंग का अंकशास्त्र

किसी ने परीक्षा छोड़ी, तो कई ने छुटि्टयां कैंसिल कीं

स्वच्छता सर्वे में बाजी मारने के लिए निगम स्टाफ ने कोई कसर नहीं छोड़ी। उपअभियंता भूमिका शास्त्री ने राज्य प्रशासनिक सेवा की परीक्षा छोड़कर शहर कि स्वच्छता पर पूर्ण ध्यान देते हुए अपने कर्तव्य पर उपस्थित रहीं । वहीं उपअभियंता श्रीकांत नायर अपने चार दिन के शिशु और धर्मप|ी को अस्पताल में छोड़ कर निगम की ड्यूटी पर मुस्तैद रहे। सहायक अभियंता सोमशेखर विश्वकर्मा ने तबीयत की परवाह नहीं की, तो उपअभियंता नीतीश अमन साहू ने मांगलिक कार्य पर परिवारवालों के जिम्मे छोड़ दिया। उप अभियंता शिव गर्ग ने एक माह से एक भी शासकीय अवकाश के दिन छुट्टी नहीं ली और डॉटा सेंटर को ही अपना आशियाना बना लिया। उपअभियंता हर्षित आजमानी अपने सगे भाई की चल रही सर्जरी को छोड़कर शहर और निगम हित के कार्य को तवज्जो दिया।

4000 स्वच्छता सर्वेक्षण के कुल अंक

1400 सिटीजन फीडबैक

1400 डाक्यूमेंटेशन

1200 डायरेक्ट आब्जर्वेशन

जनसमर्थन : स्वच्छता के प्रयासों को सराहा

टीम ने 1013 लोगों से बात की। इनमें 33 लोगों ने नेगेटिव जवाब दिए। शहर हित में भास्कर की पहल भी रंग लाई जो इतने बड़े पैमाने पर नागरिकों ने सकारात्मक जवाब दिए। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि कुल 4000 अंकों में से जनता के फीडबैक के पूरे 1400 अंक हमें मिलेंगे। इससे स्वच्छता में शहर के अच्छे रैंक के दावे को काफी मजबूती मिलेगी। बता दें कि फीडबैक के आंकड़े एमओएडी की साइट पर बुधवार को सर्वे क्लोज करते हुए दिए गए। जनता के फीडबैक की तस्दीक निगम प्रशासन ने की।

सर्वे के साथ स्वच्छता का पाठ पढ़ा गई टीम

सर्वे के दौरान मिनोचा कालोनी में टीम के सदस्यों को एक नागरिक ने निगम कर्मी समझ कर निजी प्लाट में जमा कचरे की ओर ध्यान आकृष्ट किया। जिस पर सर्वेयर ने उसे समझाया कि कचरा निगम वाले इकट्‌ठा नहीं करते। आखिर आप लोगों की भी तो जिम्मेदारी है कि घर का कचरा कचरा गाड़ी को दें। वहीं पं दीनदयाल उद्यान में कचरा जलाने पर नाराजगी जताते हुए केयर टेकर को इसके लिए आगाह किया।