• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • रेलवे: सालों बाद जागे अफसर, जर्जर दीवार को ढहाया, नया बनाने लगे, राहत का दावा
--Advertisement--

रेलवे: सालों बाद जागे अफसर, जर्जर दीवार को ढहाया, नया बनाने लगे, राहत का दावा

Bilaspur News - रेलवे के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी निर्माण के कार्यालय परिसर की जर्जर बाउंड्रीवाल को गिराकर नए सिरे से निर्माण...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 02:30 AM IST
रेलवे: सालों बाद जागे अफसर, जर्जर दीवार को ढहाया, नया बनाने लगे, राहत का दावा
रेलवे के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी निर्माण के कार्यालय परिसर की जर्जर बाउंड्रीवाल को गिराकर नए सिरे से निर्माण शुरू कर दिया गया है। इस बार दीवार पाइलिंग सिस्टम से खड़ी कराई जा रही है।

कंस्ट्रक्शन विभाग के कार्यालय की बाउंड्रीवाल जर्जर होने की खबर दैनिक भास्कर ने प्रमुखता से प्रकाशित की थी। यह बाउंड्रीवाल एक तरफ झुक चुकी थी और किसी भी दिन गिर जाती। खबर प्रकाशित होने के दूसरे ही दिन ग्रीन नेट लगाकर बाउंड्रीवॉल ढहा दी गई। इससे पहले बाउंड्रीवाल को सुरक्षित दिखाने के लिए एसबेस्टस सीट से ढंक दिया गया था। अब उस बाउंड्रीवाल के स्थान पर नई बाउंड्रीवाल का निर्माण शुरू कर दिया गया है। यह काम रेलवे प्रशासन ने सुरक्षा की दृष्टि से आनन-फानन में शुरू कराया है। बाउंड्रीवॉल गिरने से कोई भी बड़ा हादसा हो सकता था, क्योंकि अंदरूनी हिस्से में अधिकारी-कर्मचारियों के चार पहिया वाहन इस दीवार के पीछे ही खड़े होते हैं। परिसर की सुरक्षा के लिए भी यह अत्यंत आवश्यक था। महाप्रबंधक कार्यालय परिसर से यह परिसर जुड़ा होने की वजह से भी बाउंड्रीवॉल का नया निर्माण आवश्यक प्रतीत हो रहा था। लगभग 60 मीटर लंबी बाउंड्री वाल का निर्माण अब पाइलिंग सिस्टम से किया जा रहा है। पूर्व में यह नींव वाला था।

काेई 60 मीटर लंबी बाउंड्रीवाल का निर्माण अब पाइलिंग सिस्टम से

रेलवे के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी निर्माण के दफ्तर में यूं चल रहा है बाउंड्रीवाल का काम।

रेलवे क्षेत्र में दो साल से लावारिस पड़ा है ट्रैक्टर

आरपीएफ सेटलमेंट को जानकारी नहीं, कोई कुछ बताने को तैयार भी नहीं

डीबी स्टार | बिलासपुर

रेलवे क्षेत्र में सड़क किनारे ठेला लगाकर जीवन यापन करने वालों से अवैध वसूली करने वाले आरपीएफ के सेटलमेंट डिपार्टमेंट के इंस्पेक्टरों और हवलदारों को वर्षों से लावारिस खड़े ट्रैक्टर और ट्राली नजर नहीं आ रही है।

रेलवे के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी निर्माण के कार्यालय के सामने मुख्य सड़क के किनारे दो ट्रैक्टर व दो ट्रॉली वर्षों से खड़े हैं। ट्रॉली की हालत तो ऐसी है कि उसके टायर मिट्टी में धंसने लगे हैं। यह ट्रैक्टर किसके हैं और क्यों यहां खड़ा रखा गया है उसके बारे में आरपीएफ सेटलमेंट को कोई जानकारी नहीं है। आरपीएफ के इंस्पेक्टरों और हवलदारों को रसूखदारों को ये ट्रैक्टर नजर नहीं आ रहे हैं। जगमल चौक से रेलवे स्टेशन जाने वाली सड़क पर चलते समय जैसे ही रेलवे परिसर शुरू होता है ठीक उसी के पास सीधे हाथ की तरफ बंगले की बाउंड्रीवाल के सामने ये ट्रैक्टर खड़े हैं। आरपीएफ सेटलमेंट का दफ्तर डीआरएम कार्यालय के गेट पर है। वहां से यह स्थान 200 मीटर से ज्यादा दूर नहीं है।

रेलवे में सड़क किनारे ये ट्रैक्टर खड़ा है। मालिक की जानकारी नहीं मिल रही।

X
रेलवे: सालों बाद जागे अफसर, जर्जर दीवार को ढहाया, नया बनाने लगे, राहत का दावा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..