--Advertisement--

उन्नति के लिए योग-साधना जरूरी: मंजू

मनुष्य के जीवन में दैवीय गुणों का समावेश कराने और भगवान का संदेश जन-जन तक पहुंचाने के लिए सेवाएं तो हम कर रहे हैं।...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:30 AM IST
मनुष्य के जीवन में दैवीय गुणों का समावेश कराने और भगवान का संदेश जन-जन तक पहुंचाने के लिए सेवाएं तो हम कर रहे हैं। इसमें निरंतरता बनाए रखने के लिए हमें स्वयं के सशक्तिकरण व जीवन में तपस्या और साधना की आवश्यकता है। हमारी आध्यात्मिक उन्नति के लिए यह महसूस होना जरूरी है कि मैं कहां गलत हूं। महसूस होने के बाद ही हम सकारात्मक रूप से परिवर्तन की प्रक्रिया में जा सकते हैं। इसके लिए जीवन में सच्चाई और सफाई का गुण चाहिए। यह बातें ब्रह्मकुमारीज टिकरापारा सेवाकेंद्र में स्थित भोलेनाथ की कुटिया में आयोजित पांच दिवसीय योग साधना कार्यक्रम के पहले दिन सेवाकेंद्र प्रभारी ब्रकु मंजू दीदी ने कही। पांच दिनों के लिए अलग-अलग पांच समूह बनाए गए हैं। दिन भर 9 घंटे तपस्या होगी। सुबह सकारात्मक चिंतन के ज्ञान मुरली क्लास के बाद 4 घंटे योग, मोटिवेशनल क्लास और शाम के सत्र में चार घंटे बैठक होगी।

दीप प्रज्जवलित कर पांच दिवसीय योग साधना शिविर की शुरूआत करते हुए।