• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • महिला परामर्श केंद्र में पूरे हफ्ते काउंसलिंग, पहली बार पुरुष भी सदस्य
--Advertisement--

महिला परामर्श केंद्र में पूरे हफ्ते काउंसलिंग, पहली बार पुरुष भी सदस्य

प|ी-प|ी से संबंधित विवाद निपटाने के लिए स्थापित महिला परामर्श केंद्र में अब हर रोज सुनवाई होगी। पहले यहां सप्ताह...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:30 AM IST
प|ी-प|ी से संबंधित विवाद निपटाने के लिए स्थापित महिला परामर्श केंद्र में अब हर रोज सुनवाई होगी। पहले यहां सप्ताह में केवल दो बार ही काउंसलिंग होती थी। आईजी के निर्देश पर काउंसलरों की संख्या 8 से बढ़ाकर दोगुना 16 कर दी गई है। परामर्श केंद्र में पहली बार दो पुरुष काउंसलर भी नियुक्त किए गए हैं। पीड़ितों का घर टूटने से बचाने के लिए मनोवैज्ञानिक व समाजसेवियों को भी शामिल किया गया है।

दहेज प्रताड़ना, घरेलू हिंसा, महिला प्रताड़ना के मामले, पति के शराब पीकर मारपीट करने से संबंधित महिलाओं की समस्याओं को सुनने व उसका त्वरित निराकरण करने के लिए महिला परामर्श केंद्र का गठन किया गया है। यह महिला थाने में स्थापित है। आईजी दीपांशु काबरा ने इसे अपडेट किया है। पहले यह सप्ताह में दो दिन मंगलवार व शनिवार को ही संचालित होती थी। इसे बढ़ाकर 7 दिन कर दिया गया है। रविवार को छुट्टी के दिन ही यह बंद रहेगा महिला परामर्श केंद्र में हफ्ते में 30-40 केस आ जाते थे। सभी की सुनवाई करने में भी दिक्कत होती थी। काउंसलरों की संख्या भी काफी कम थी। केवल 8 से काम चल रहा था। इसे बढ़ाकर अब दोगुना 16 कर दिया गया है और नए सदस्यों का चयन भी कर लिया गया है। महिला परामर्श केंद्र में पहली बार 2 पुरुष काउंसलर रखे गए हैं। यहां अब हर रोज काउंसलिंग होगी। नई व्यवस्था में समाजसेवियों के साथ मनोवैज्ञानिकों को भी शामिल किया गया है। यहां काउंसलिंग का समय दोपहर 2 बजे से रात 8 बजे तक रखा गया है। आईजी के अनुसार नई व्यवस्था में प्रकरणों का निपटारा जल्दी होगा और परिवार टूटने से बचेंगे। इसी तरह पीड़ितों को न्याय भी मिलेगा।

चलित केंद्रों में भी सुनी जाएंगीं समस्याएं, होगा त्वरित निराकरण

महिला सेल प्रभारी मेघा टेम्भुरकर के अनुसार पीड़ितों को सुविधाएं प्रदान करने के लिए आईजी के निर्देश पर चलित रूप से परिवार परामर्श केंद्र की व्यवस्था भी की गई है। इसकी शुरुआत पेंड्रा, सीपत, काेटा व बिल्हा से की जा रही है। आगे इसका लाभ अन्य स्थानों के लोगों को ही मिलेगा।