• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • छात्रों ने प्रवेश पत्र में हुई गलती सुधार नि:शुल्क करने मांग की
--Advertisement--

छात्रों ने प्रवेश पत्र में हुई गलती सुधार नि:शुल्क करने मांग की

परीक्षा विभाग प्रभारी को ज्ञापन सौंपते छात्र। एजुकेशन रिपोर्टर | बिलासपुर बिलासपुर यूनिवर्सिटी ने मुख्य...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:30 AM IST
परीक्षा विभाग प्रभारी को ज्ञापन सौंपते छात्र।

एजुकेशन रिपोर्टर | बिलासपुर

बिलासपुर यूनिवर्सिटी ने मुख्य परीक्षा के लिए छात्रों का प्रवेश पत्र ऑनलाइन जारी कर दी है। प्रवेश पत्र में अधिकांश छात्रों ने नाम, फोटो और जेंडर गलत हैं। इसको सुधरवाने छात्र यूनिवर्सिटी पहुंच रहे हैं। इसमें सुधार कराने यूनिवर्सिटी 100 रुपए ले रहे हैं, क्योंकि यह गलती छात्रों की है। इसको लेकर बुधवार को डीपी विप्र कॉलेज में अध्ययनरत छात्रों ने घेराव किया। छात्रों ने मांग किया कि प्रवेश पत्र में हुई त्रुटि का सुधार नि:शुल्क किया जाए। ऐसी गलतियों में करेक्शन के लिए ऑनलाइन आप्शन दिया जाए। इन मांगाे को लेकर छात्रों ने परीक्षा विभाग प्रभारी प्रदीप सिंह को कुलपति प्रो. जीडी शर्मा के नाम ज्ञापन सौंपा।

बिलासपुर यूनिवर्सिटी की मुख्य परीक्षा 7 मार्च से शुरू हो रही है। परीक्षा के लिए यूनिवर्सिटी 91 परीक्षा केंद्र बनाई है। इसमें 1 लाख 59 हजार छात्र परीक्षा में बैठेंगे। इन छात्रों का प्रवेश पत्र यूनिवर्सिटी ने जारी कर दिया है। प्रवेशपत्र ऑनलाइन जारी हुआ है। यूनिवर्सिटी की वेबसाइट से छात्र कैफे से प्रवेश पत्र डाउनलोड कराकर अपने कॉलेजों में नो-ड्यूज करा रहे हैं। नो-ड्यूटी के नाम पर कॉलेजों मे छात्रों से 200 से 300 रुपए वसूले जा रहे हैं। डीपी विप्र और सीएमडी कॉलेज में 200 रुपए लिए जा रहे हैं। बुधवार को छात्रों ने डीपी विप्र कॉलेज के छात्रसंघ पदाधिकारी मनीष मिश्रा के नेतृत्व में घेराव किया। जबकि डीपी विप्र कॉलेज में भी नो-ड्यूज के नाम 200 रुपया लिया जा रहा है। घेराव कर रहे छात्रों ने कहा कि कॉलेज द्वारा भी गलत पैसा लिया जा रहा है, लेकिन छात्रसंघ पदाधिकारी उसे नहीं लेने एक भी बार कॉलेज से मांग नहीं कर रहे हैं। ज्ञापन सौंपने में हिमेश साहू, मनोज मेश्राम, राज वर्मा, नागेन्द्र सिंह, विक्रांत श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।