• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • शहर में साफ पानी मुहैया कराने निगम ने मांगा 146 कर्मियों का सेटअप
--Advertisement--

शहर में साफ पानी मुहैया कराने निगम ने मांगा 146 कर्मियों का सेटअप

शहर के लोगों को पीने का साफ पानी उपलब्ध करवाने अब नगर निगम ने कर्मचारियों के नए सेट अप की मांग की है। इसके लिए नगरीय...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:35 AM IST
शहर के लोगों को पीने का साफ पानी उपलब्ध करवाने अब नगर निगम ने कर्मचारियों के नए सेट अप की मांग की है। इसके लिए नगरीय प्रशासन विभाग को नया सेटअप स्वीकृत करने कहा गया है। नगर निगम ने जनहित याचिका पर न्याय मित्रों द्वारा दी गई रिपोर्ट का परिपालन सुनिश्चित करने लैब और साफ पानी की सप्लाई के लिए 146 अधिकारी व कर्मचारियों की नियुक्ति की मांग की है। हाईकोर्ट ने नगरीय प्रशासन विभाग के सचिव को दो सप्ताह में जवाब देने के लिए कहा है कि ये पद कब तक भर लिए जाएंगे?

गंदे पानी की वजह से पीलिया समेत अन्य बीमारियों के फैलने और इस वजह से अपनी प|ी की मौत की जानकारी देते हुए रायपुर में रहने वाले मुकेश कुमार देवांगन ने 2014 में हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई थी। मार्च 2017 में हाईकोर्ट ने वकील मनोज परांजपे, सौरभ डांगी और अमृतो दास को न्याय मित्र नियुक्त करते हुए पेयजल व्यवस्था से जुड़े सभी स्थानों की निजी तौर पर जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा था। न्याय मित्रों ने निरीक्षण के दौरान पाया कि शहर में अधिकांश जगहों पर बोर से पानी की सप्लाई की जाती है। पीएचई में केमिस्ट का सिर्फ एक पद है, वह भी खाली पड़ा हुआ है। लैब असिस्टेंट का एक पद है। पानी का सेंपल कलेक्ट करने वाला कोई नहीं है। वहीं, पीएचई की लैब में पानी की जांच के लिए जरूरी कई उपकरण भी नहीं हैं। लैब कई दिनों से खुले भी नहीं हैं। निरीक्षण के पहले करीब 13 दिनों से पानी के सेंपल की जांच भी नहीं की गई। नगर निगम के लैब में पदस्थ कर्मचारी स्कूलों में कार्य कर रहे हैं। अधिकांश जगहों पर पीने के पानी की पाइप लाइन नालियों से होकर गुजरी है। अधिकारियों ने बताया कि शहर में चल रहे सीवेज के कार्य की वजह से कई जगहों पर लीकेज की समस्या सामने आ रही है। इसके बाद हाईकोर्ट ने पीएचई के ईएनसी को न्याय मित्रों के सुझावों पर अमल करने को लेकर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे। बुधवार को सुनवाई के दौरान न्याय मित्रों ने बताया कि बिलासपुर नगर निगम में 1980 के सेटअप के अनुसार नियुक्त कर्मचारी काम कर रहे हैं। कर्मचारियों की कमी का असर पीने का साफ पानी उपलब्ध करवाने पर भी पड़ रहा है। जल्द से जल्द नए कर्मचारियों की नियुक्ति की जानी चाहिए।

नए सेटअप के लिए सचिव को भेजा प्रस्ताव

नगर निगम की तरफ से नगरीय प्रशासन विभाग को पत्र लिखकर नए सेटअप के अनुसार कर्मचारी नियुक्त करने की मांग की गई है। आयुक्त द्वारा नगरीय प्रशासन विभाग के सचिव को पत्र लिखकर बताया गया है कि न्याय मित्रों ने बिलासपुर में एनएबीए से मान्यता प्राप्त जल परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापना का सुझाव दिया है। वर्तमान में जल आवर्धन योजना के तहत प्रयोगशाला हस्तांतरण की कार्रवाई की जा रही है।

निगम ने लैब के लिए मांगा ये सेटअप

कैमिस्ट- 1

बैक्टीरियोलॉजिस्ट- 1

लैब टेक्नीशियन- 3

टाइपिस्ट कम क्लर्क- 1

सैंपल टेकर्स- 3

लैब क्लीनर- 3

जल विभाग में चाहिए प्रशिक्षित स्टाॅफ

कार्यपालन अभियंता- 1

सहायक अभियंता- 2

उप अभियंता- 6

डाटा एंट्री ऑपरेटर- 6

स्टोर कीपर- 2

टाइम कीपर- 15

प्लंबर- 10

इलेक्ट्रिशियन- 4

हेल्पर- 20

मजदूर- 20

सुरक्षाकर्मी- 30

केमिस्ट- 3

लैब अटेंडेंट- 3

लीकेज इंस्पेक्टर- 12