Hindi News »Chhatisgarh »Bilaspur» करोड़ों की कांक्रीट सड़क उखड़ी, लीपापोती के लिए लाया डामरीकरण का प्रस्ताव स्थगित

करोड़ों की कांक्रीट सड़क उखड़ी, लीपापोती के लिए लाया डामरीकरण का प्रस्ताव स्थगित

जवाली नाला पुल पर तेलीपारा से जिला पशु चिकित्सालय तक बनाई गई करोड़ों की कांक्रीट सड़क लोकार्पण के चंद महीने में ही...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 03:30 AM IST

जवाली नाला पुल पर तेलीपारा से जिला पशु चिकित्सालय तक बनाई गई करोड़ों की कांक्रीट सड़क लोकार्पण के चंद महीने में ही कई जगहों से उखड़ गई। निर्वाचित परिषद ने बजाय मामले की जांच कराने के उल्टे लीपापोती की गरज से उखड़ी हुई कांक्रीट के ऊपर डामरीकरण कराने का प्रस्ताव एमआईसी में रख दिया। पार्षदों के विरोध के चलते मेयर किशोर राय को इसे स्थगित करना पड़ा। उन्होंने घटिया निर्माण से इनकार किया है, परंतु जोन क्रमांक 2 की ओर से ठेकेदार को नोटिस दिया गया है। कांक्रीट सड़क का लोकार्पण नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने 7 सितंबर 2017 को किया था।

सदर बाजार से गांधी चौक की सकरी सड़क पर ट्रैफिक का दबाव कम करने की गरज से निगम प्रशासन ने जवाली नाले पर जिला पशु चिकित्सालय से तेलीपारा तथा मध्यनगरीय से मिशन अस्पताल रोड तक दो हिस्सों में नाले के ऊपर कांक्रीटीकरण कर आ‌वागमन के लिए रास्ता बनाया। सड़क बनते साथ लोग इसका इस्तेमाल करने लगे हैं। दोपहिया वाहन चालकों के लिए यह सबसे सहज मार्ग है, परंतु इस पर अब हैवी वाहन भी चलने लगे हैं। तेलीपारा से पशु चिकित्सालय के हिस्से में तो कबाड़ी की ट्रक अक्सर आवागमन करते नजर आती है। आरोप है कि कबाड़ी ने हैवी वाहनों को रोकने के लिए रोड के बीच में लगाए गए लोहे के गर्डर को काट कर निकाल दिया। इसके बावजूद निगम की ओर से कोई कार्रवाई अब तक नहीं की गई है। नोटिस के मुताबिक ठेकेदार को उखड़ी हुई कांक्रीट की रिपेयरिंग करनी थी, परंतु ऐसा नहीं किया गया। एई आरएस चौहान का कहना है कि बियरिंग कोट की राशि शेष है। इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे कांक्रीट रोड पुख्ता हो जाएगी। कांक्रीट सड़क में बियरिंग कोट आवश्यक होता है।

लोकार्पण के दौरान ही कई जगहों पर कांक्रीट उखड़ने लगी थी

लोगों का कहना है कि यह सड़क तीसरी बार उखड़ी है।

मेयर और कमिश्नर के विरोधाभासी बयान

मेयर किशोर राय ने पहले तो कांक्रीट सड़क पर डामरीकरण के प्रस्ताव से ही इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि बैठक में एमआईसी मेंबरों से सुझाव मांगे गए थे। इस आधार पर परीक्षण कराया जा रहा है। घटिया निर्माण से उन्होंने इनकार किया। वहीं कमिश्नर सौमिलरंजन चौबे का कहना है कि यदि घटिया निर्माण हुआ है, तो इसकी जांच कराई जा सकती है। अब तो निगम में कोर कटिंग की आसान व्यवस्था है।

2.10 करोड़ का वर्क आर्डर

पशु चिकित्सालय से तेलीपारा तक 510 मीटर की लंबाई तथा साढ़े पांच मीटर की चौड़ाई में जवाली नाले के ऊपर कांक्रीट सड़क बनाने के लिए 2.10 करोड़ रुपए का वर्क आर्डर किया गया। एक अधिकारी की राय पर बियरिंग कोट का कार्य नहीं कराया गया। हालांकि इसके 20 लाख रुपए कम कर दिए गए। लोकार्पण की जल्दबाजी में बारिश के दौरान ही कांक्रीटीकरण का कार्य करा दिया गया। लोकार्पण 16 जून को कराया गया। लोकार्पण के दौरान ही कई जगहों पर कांक्रीट उखड़ने लगी थी। इसी प्रकार मध्यनगरीय से मिशन अस्पताल रोड के मध्य 310 मीटर लंबे तथा 5 मीटर की चौड़ाई में कांक्रीट सड़क बनाई गई। इसके लिए 70 लाख का वर्क आर्डर किया गया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bilaspur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×