Hindi News »Chhattisgarh News »Bilaspur News» Examination Of The CMHO Ignored By The High Court Order

हाईकोर्ट के आदेश की अनदेखी तत्कालीन सीएमएचओ की जांच

Bhaskar News | Last Modified - Nov 05, 2017, 06:11 AM IST

हाईकोर्ट ने राज्य शासन को जांच के बाद उचित कार्रवाई के दिए निर्देश।
  • हाईकोर्ट के आदेश की अनदेखी तत्कालीन सीएमएचओ की जांच
    बिलासपुर।हाईकोर्ट ने बिलासपुर में पिछले चार सालों में पदस्थ रहे सीएमएचओ के खिलाफ जांच शुरू करने के आदेश राज्य शासन को दिए हैं। हाईकोर्ट ने सीएमएचओ कार्यालय में पदस्थ कर्मचारी की याचिका पर 2013 में आदेश दिए थे, लेकिन चार साल बाद भी इसका पालन नहीं होने पर अवमानना याचिका लगाई गई है।
    - स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ सरस्वती दुबे ने नियमित वेतनमान के लिए 2012 में याचिका प्रस्तुत की थी। हाईकोर्ट ने 17 जून 2013 को मामले का तीन माह के भीतर निराकरण के लिए निर्देश सीएमएचओ को दिए थे, लेकिन चार साल बाद भी इस पर निर्णय नहीं लिया गया।
    - इस पर उसने अधिवक्ता सुनील ओटवानी के जरिए अवमानना याचिका लगाई, इस पर सुनवाई के दौरान राज्य शासन की तरफ से बताया गया कि 10 अक्टूबर 2017 को मामले में आदेश जारी कर दिया गया है।
    - जस्टिस मनींद्र मोहन श्रीवास्तव की बेंच ने हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद चार साल का समय लेने पर नाराजगी जाहिर करते हुए बिलासपुर में पिछले चार सालों में पदस्थ रहे सीएमएचओ के खिलाफ जांच शुरू करने के निर्देश दिए हैं। नोटिस जारी कर मामले के निराकरण में इतना समय लगने पर उनसे जवाब मांगा जाए। जवाब मिलने के बाद उनके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bilaspur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Examination Of The CMHO Ignored By The High Court Order
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Bilaspur

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×