• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • नये रूटों में नहीं चल पा रही सिटी बस, अफसर कह रहे शासन जाने
--Advertisement--

नये रूटों में नहीं चल पा रही सिटी बस, अफसर कह रहे शासन जाने

शहर के 12 रूट में चल रही सिटी बस को मुंगेली, मस्तूरी और दूसरे क्षेत्रों में चलाने की मांग की जा रही है, लेकिन शासन की...

Danik Bhaskar | May 03, 2018, 02:25 AM IST
शहर के 12 रूट में चल रही सिटी बस को मुंगेली, मस्तूरी और दूसरे क्षेत्रों में चलाने की मांग की जा रही है, लेकिन शासन की मंजूरी के अभाव में यह शुरू नहीं हो पा रही है। इस बार मुंगेली तक सिटी बस चलाने की मांग वहां के लोगों ने की है। सिटी बस शुरू हुए लंबा समय बीतने के बाद भी लोगों की सुविधाएं नहीं बढ़ीं है। अभी तक ग्रामीण क्षेत्र में मासिक टिकट बनाने के लिए न किसी को फ्रेंचाइजी दी गई और न ही बस स्टॉप की सुविधा प्रारंभ हो सकी है।

सिटी बस को अन्य क्षेत्रों में चलाने की मांग काफी समय से की जा रही है। इसके बाद भी शासन इस पर अब तक कोई निर्णय नहीं ले पाया है। वर्तमान में सिटी बस कोटा, तखतपुर, रतनपुर, सीपत तक जा रही है लेकिन दूरदराज के क्षेत्र अभी भी छूटे हुए हैं जहां से इसे चलाने की मांग की जा रही है। कुछ समय पूर्व मस्तूरी तक चलाने की मांग की गई थी लेकिन बाद में इस पर कोई पहल नहीं हुई। अब सिटी बस को बिलासपुर से मुंगेली तक चलाने की मांग की गई है। इस पर अफसरों का कहना है कि यदि शासन से मंजूरी मिलती है तो सिटी बस को चलाया जा सकेगा। मुंगेली के अलावा सीपत तक जा रही सिटी बस को लूथरा तक और मल्हार तक चल रही सिटी बस को पचपेड़ी तक चलाने की मांग की गई है।

न स्टॉप बने और न ही मासिक पास टिकट बनाने के लिए फ्रेंचाइजी दी

जानिए उन सुविधाओं को जो अब तक शुरू नहीं हो सकीं







सचिव ने डेढ़ माह के अंदर आईटीएस सिस्टम शुरू करने को कहा था

नगरीय निकाय के सचिव रोहित यादव ने कुछ समय पहले नगरीय निकाय अफसरों की मीटिंग ली थी। इसमें डेढ़ माह के अंदर बसों की लोकेशन जानने के लिए आईटीएस सिस्टम को शुरू करने का निर्देश दिया था। इसके बाद भी अब तक कुछ नहीं हो सका।

मंजूरी के बाद ही नए रूट में चलेंगी बसें