• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • छात्र नाटक से संदेश दे रहे, स्वार्थी न बनें, सफाई आपकी जिम्मेदारी
--Advertisement--

छात्र नाटक से संदेश दे रहे, स्वार्थी न बनें, सफाई आपकी जिम्मेदारी

पर्यावरण को संरक्षित करने छात्रों ने अभियान चलाया जा रहा है। छात्रों द्वारा मै यम हूं नामक नाटक दिखा रहे हैं।...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:35 AM IST
पर्यावरण को संरक्षित करने छात्रों ने अभियान चलाया जा रहा है। छात्रों द्वारा मै यम हूं नामक नाटक दिखा रहे हैं। इसमें सौमिक रावण का रोल कर रहे हैं, देवो चित्रगुप्त का, समीर नारद का रोल कर रहे हैं। इसमें छात्रों ने दिखाया है कि यम पृथ्वी पर आते हैं तो देखते हैं कि यहां पूरी तरह गंदगी फैली हुई है। इसके बाद वह छात्रों से कहते हैं कि आप स्वार्थी न बनें। हम सबकी जिम्मेदारी है कि हम अपने आस-पास साफ-सफाई रखें। इससे हम स्वस्थ रहेंगे। अगर हम स्वस्थ रहेंगे तो हम अच्छा सोचेंगे, अच्छा कार्य करेंगे। इससे हमारे शहर और देश का नाम होगा।

पर्यावरण को संरक्षित करने सभी लोग जुट गए हैं। हर दिन लोगों द्वारा विभिन्न तरीके से पर्यावरण को संरक्षित करने लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इसकी के तहत भारत माता स्कूल के इको क्लब के छात्रों द्वारा लोगों को नुक्कड़-नाटक से जागरूक कर रहे हैं। 22 अप्रैल को पूरे देश में पृथ्वी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी तारतम्य में भारत माता आंग्ल माध्यम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के ईको क्लब के छात्र-छात्राएं मै यम हूं नुक्कड़ नाटक व माइम प्ले का आयोजन किया जा रहा है। पृथ्वी दिवस सप्ताह के अंतर्गत संपूर्ण छत्तीसगढ़ में यह अायोजन किया जा रहा है। रविवार को छात्रों ने इसकी शुरुआत की। इसमें छात्र अक्सा, मोनिका, सुप्रिया, हिमांगी, कृष्टि, उत्तम, नवीन और राहुल ने रेलवे और शंकर नगर चौक पर नुक्कड़-नाटक कर लोगों को जागरूक किया।

रेलवे स्टेशन और शंकर नगर चौराहे पर छात्रों ने नाटक कर दिया संदेश

छात्र नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगों को जागरुक करते हुए।

इस तरह कर रहे जागरूक

माइम प्ले इस माध्यम से छात्र-छात्राओं ने प्लास्टिक बंद करने, दैनिक जीवन में उसके उपयोग को कम करने, जल संरक्षण, साइकिल को अपनाना, बिजली के उपकरणों का सही उपयोग, विषयों पर अपना प्रस्तुति दे रहे हैं। बिलासपुर शहर के विभिन्न चौराहों पर अपनी प्रस्तुति देंगे। रविवार को रेलवे स्टेशन चौराहे, शंकर नगर चौराहे पर अपनी प्रस्तुति दी। छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल के निर्देशन में यह कार्यक्रम किया जा रहा है।