• Home
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • निर्माण में जितने पेड़ काटे तो प्लांटेशन में दस गुना पौधे लौटाने होंगे विभाग को
--Advertisement--

निर्माण में जितने पेड़ काटे तो प्लांटेशन में दस गुना पौधे लौटाने होंगे विभाग को

सड़क निर्माण या विकास कार्यों के लिए यदि एक पेड़ भी काटा तो उसके लिए संबंधित विभाग को उसके दस गुना की तुलना में...

Danik Bhaskar | May 17, 2018, 03:15 AM IST
सड़क निर्माण या विकास कार्यों के लिए यदि एक पेड़ भी काटा तो उसके लिए संबंधित विभाग को उसके दस गुना की तुलना में प्लांटेशन कर वन विभाग के हवाले करना होगा। अब तक कटे हुए पेड़ के हिसाब से तय राशि वन विभाग को दी जाती थी लेकिन नई व्यवस्था में जिम्मेदार विभाग को दस गुना प्लांटेशन कर देना होगा।

जिले में सड़क निर्माण व विकास कार्य के लिए पिछले 3 साल में 5 हजार पेड़ काट दिए गए। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन है कि कटे हुए पेड़ की तुलना में दस गुना प्लांटेशन किया जाए लेकिन गिनती के ही प्लांटेशन हो सके हैं। इस बीच पेड़ों को काटने पर अब जिम्मेदार विभाग को दस गुना प्लांटेशन कर देना होगा। पिछली व्यवस्था से यह और कठिन व्यवस्था है । अब तक तीन साल में कटे हुए 5 हजार पेड़ों की तुलना में चुनिंदा पौधों के प्लांटेशन हो सके हैं जबकि दस गुना प्लांटेशन होने थे। मामलें में पेंच जिम्मेदार विभागों की ओर से प्लांटेशन की राशि वन विभाग को नहीं दिया जाना बताया जा रहा है। अब दोनों विभाग के बीच किसी भी प्रकार का विवाद न हो इसके लिए ही पेड़ काटने पर प्लांटेशन कर वन विभाग के हवाले करने की व्यवस्था लागू की गई है। इसके बाद मॉनिटरिग करने की जिम्मेदारी वन विभाग की होगी। विभाग ने इन तीन सालों में एक भी पौधरोपण नहीं किया।

कटे हुए पेड़ के बदले वन विभाग को दी जाती थी राशि


कहां- कहां काट दिए गए पेड़





बीते दो सालों में काटे गए पेड़

सत्र 2015-16 में

जगह कितने काटे जाने थे कितने कटे

कोटा रोड 652 652

बिलासपुर,रायगढ़,उदावल 1418 500

बिलासपुर-सेंदरी 1760 140

मस्तूरी-जयराम नगर 113 113

चांटीडीह, बैमा, पौंसरा 102 102

काठाकोनी,मेड़पार 686 686

मस्तूरी,दर्रीघाट 375 375

मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी होगी हमारी