बिलासपुर

  • Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • दुष्कर्म पीड़ित मामले में सिविल लाइन टीआई आज पेश होंगे सीजेएम कोर्ट में
--Advertisement--

दुष्कर्म पीड़ित मामले में सिविल लाइन टीआई आज पेश होंगे सीजेएम कोर्ट में

दहेज प्रताड़ना व दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज कराने वाली महिला वकील ने सिविल लाइन पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप...

Dainik Bhaskar

May 17, 2018, 03:15 AM IST
दहेज प्रताड़ना व दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज कराने वाली महिला वकील ने सिविल लाइन पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए 2014 में दिल्ली के सुप्रीम कोर्ट परिसर में फिनाइल पीकर जान देने की कोशिश की थी। इस मामले में बिलासपुर पुलिस ने कोर्ट में खात्मा पेश कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट इसमें सुनवाई कर रही है। जिला कोर्ट ने बुधवार को सिविल लाइन थाने के टीआई को बुलाया है।

30 नवंबर 2013 को बेमेतरा निवासी एक महिला वकील ने थाने पहुंचकर इस आशय की रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि 29 नवंबर 2013 की रात उसका जेठ, उसका बेटा व उसका एक दोस्त रायपुर से उसके घर पहुंचे और उसके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस ने इस मामले में धारा 376,घ 452,506 और 323,34 के तहत जुर्म दर्ज किया था। उसके पति ने महिला के खिलाफ कई मामलों का सबूत देते हुए रायपुर बेमेतरा के न्यायालयों में उसके झूठी शिकायतों के कारण केस हार जाने के प्रमाण दिए और आदतन झूठी शिकायत करने वाली महिला बताया। पति व ससुराल वालो के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद महिला वकील अपने पति व परिवार से अलग रहने लगी थी। वह चांटापारा में किराए का मकान लेकर प्रैक्टिस कर रही थी। बिलासपुर जिला कोर्ट में केस चल रहा था। महिला वकील ने महिला आयोग से भी शिकायत की थी। इस बीच सिविल लाइन पुलिस ने इस केस में खात्मा पेश कर दिया। 23 सितंबर 2014 को महिला वकील सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई और न्याय नहीं मिलने की बात कहते हुए कोर्ट परिसर में फिनाइल पीकर खुदकुशी करने की कोशिश की। वह इसी हालत में सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश आरएम लोढ़ा की अदालत में पहुंची थी और बताया था कि उसे न्याय नहीं मिल पा रहा है। छत्तीसगढ़ की पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले पर संज्ञान लिया था। वहीं, उसके ससुराल वालों के खिलाफ बिलासपुर हाईकोर्ट में मुकदमा चल रहा है।

X
Click to listen..