Hindi News »Chhatisgarh »Champa» छह हैवी ट्रैफिक वाले सड़कों पर दो दर्जन से ज्यादा ब्लैक स्पाट, आए दिन हो रहे इस पर दुर्घटनाएं

छह हैवी ट्रैफिक वाले सड़कों पर दो दर्जन से ज्यादा ब्लैक स्पाट, आए दिन हो रहे इस पर दुर्घटनाएं

जिले में कटघोरा, चांपा, कुसमुंडा-हरदीबाजार, दीपका, पाली, अंबिकापुर ऐसे 6 हैवी ट्रैफिक वाले सड़क है। इन सड़कों पर 24 घंटे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 02:40 AM IST

छह हैवी ट्रैफिक वाले सड़कों पर दो दर्जन से ज्यादा ब्लैक स्पाट, आए दिन हो रहे इस पर दुर्घटनाएं
जिले में कटघोरा, चांपा, कुसमुंडा-हरदीबाजार, दीपका, पाली, अंबिकापुर ऐसे 6 हैवी ट्रैफिक वाले सड़क है। इन सड़कों पर 24 घंटे भारी वाहनों की आवाजाही रहती है। अंधे मोड़, संकरे पुलिया, दूर दृष्श्यता बाधित समेत अन्य वजहों से इन सड़कांे पर करीब 12 दर्जन डेंजर जोन भी है। जहां आए दिन एक्सीडेंट होते हैं। इन सड़कांे पर लगातार भारी वाहनों का दबाव बढ़ता जा रहा है। सभी ब्लैक स्पाट पर पुलिस की ओर से दुर्घटना रोकने जरूरी पहल किया जा रहा है। चेतावनी सूचक बोर्ड लगाने, ब्रेकर बनाने, जिगजैग व स्टापर लगाकर वाहनों की रफ्तार को नियंत्रित किया जा रहा है। लेकिन अकेले पुलिस का प्रयास दुर्घटना रोकने के लिए कारगर नहीं हो रहा है। इसके लिए पीडब्ल्यूडी, नगर निगम समेत अन्य औद्योगिक उपक्रमों को सहयोग करने के साथ ही जरूरी इंतजाम करना होगा।

साढ़े 3 माह में 60 मौत - जिले में सड़क दुर्घटना रोकने लगातार पुलिस प्रयास कर रही है। लेकिन बीते साढ़े 3 माह के आंकड़े देखे तो जिले में 60 लोगों की मौत सड़क हादसे की वजह से हुई है। औसतन हर दूसरे दिन एक व्यक्ति की मौत हो रही है। हालांकि पिछले साल इस अवधि में 70 लोगों की मौत हो चुकी थी।

यह उपाय जरूरी - स्पीड ब्रेकर में चमकने वाले पट्‌टी या साइन बोर्ड, स्ट्रीट लाइट का सुधार, मुख्य सड़क से हटकर यात्री वाहनों का स्टापेज, जंक्शन स्थान को बेल माऊथ बनाना तथा मार्ग की दृश्यता में बाधित सभी कारणों का मार्ग से हटाना, स्पीड लिमिट बोर्ड, चेतावनी सूचक बोर्ड, मार्ग जंक्शन बाेर्ड लगाना, सड़क से पानी निकासी के लिए नाली निर्माण, संकरे पुल का चौड़ीकरण, डेलीनेटर लाइनिंग लगाना।

यहां रहे सावधान - सोहागपुर चौक, कोथारी चौक, सरगबुंदिया स्कूल के पास, पताढ़ी चौक, उरगा चौक, बरबसपुर चौक, मुड़ापार बाइपास, कोहड़िया मोड़, दर्री डेम मोड़, जमनीपाली, गोपालपुर मोड़, छुरी, जेंजरा, सुतर्रा-कसनिया मोड़, मोहनपुर-सुतर्रा पुल, चैतमा पुल, बनबांधा नाला, डुमरकछार चौक, बगदेवा पुल, राहाडीह मोड़, दमिया मोड़, धौराभाठा के पास, चेपा नाला, केंदई मोड़, चोटिया चौक, कुसमुुंडा रोड, हरदीबाजार-दीपका रोड, रिंगरोड बाइपास रोड जहां अक्सर हादसे होते रहते हैं।

कटघोरा अंबिकापुर रोड जहां अक्सर हादसे होते रहते हैं।

दुर्घटना का मुख्य कारण

स्पीड ब्रेकर में रात के सयम चमकने वाले रेडियम पट्‌टी का अभाव, रात के समय स्ट्रीट लाइन बंद होना, साइन बोर्ड का अभाव, सड़क किनारे बिजली खंभा की वजह से हादसे, डेंजर जोन के आसपास ठेला गुमटी, सड़क पर कहीं भी सवारी वाहनों का रूकना, रोड लाइनिंग का नहीं होना, संकरे पुल, सड़क किनारे फेंसिंग व प्लांटेशन

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Champa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×