• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Dallirajhara
  • श्रमिकों के हितों की अनदेखी कर उनकी आवाज दबाने का प्रयास किया गया: कुर्रे
--Advertisement--

श्रमिकों के हितों की अनदेखी कर उनकी आवाज दबाने का प्रयास किया गया: कुर्रे

Dallirajhara News - छग असंगठित मजदूर कांग्रेस इंटक एवं छग माइन वर्कर्स यूनियन के संयुक्त तत्वावधान में बुधवार को माइंस आॅफिस गेट के...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:30 AM IST
श्रमिकों के हितों की अनदेखी कर उनकी आवाज दबाने का प्रयास किया गया: कुर्रे
छग असंगठित मजदूर कांग्रेस इंटक एवं छग माइन वर्कर्स यूनियन के संयुक्त तत्वावधान में बुधवार को माइंस आॅफिस गेट के सामने विभिन्न संगठनों के महिला व पुरुष कार्यकर्ता गोल घेरा बनाकर प्रदर्शन किया। इसके पहले जैन भवन चौक से नगर के मुख्य मार्ग थाना चौक, बस स्टैंड चौक, गुप्ता चौक सुभाष चौक तक रैली निकाली।

मुख्य अतिथि वीरेन्द्र कुर्रे ने कहा कि बीएसपी प्रबंधन द्वारा लगातार श्रमिकों के हितों की अनदेखी की जा रही है। उनके खिलाफ उठने वाली आवाज को दबाने का प्रयास किया जाता है। नौ र| कहलाने वाली यह सार्वजनिक उपक्रम आज श्रमिकों के लिए रोजगार भी पैदा भी नहीं करा पा रहा है। उन्होंने कहा कि बीएसपी प्रबंधन द्वारा पूर्व में टेक्नीकल इंजीनियर के कार्य से हटाकर बीएसपी सेक्टर 9 भेज दिया गया। सेक्टर 9 में भी हितों के लिए आवाज उठाने पर उन्हें दूसरे जगह भेज दिया गया। लेकिन वह उनकी आवाज कभी दबा नहीं पाए।

दल्लीराजहरा. रैली निकालते व माइंस आॅफिस के सामने घेरा बनाकर प्रदर्शन करते विभिन्न संगठन के लोग।

गलत नीतियों के सामने न झुकें

विरोध प्रदर्शन के दौरान कुर्रे ने कहा कि इस्पात भवन से अधिकारियों को रावघाट परियोजना का कार्य देखने भेजा जाता था, तो वे दल्लीराजहरा पास स्थित महामाया माइंस के आयरन ओर पहाड़ों के सामने फोटों खिचवाकर वापस आ आकर रावघाट से आने की बात कहते थे। उनकी इतनी हिम्मत नहीं थी वे घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में जाकर कार्य कर सकें। तब बीएसपी प्रबंधन द्वारा कार से रावघाट सहित आस-पास के क्षेत्रों में जाकर क्षेत्र अधिकारियों से मिलने एवं सीएसआर मद से कार्य कराने को कहा जाता था। उनके द्वारा उस समय 8 मेडिकल कैम्प भी लगाए गए थे। लेकिन वह कभी बीएसपी के गलत नीतियों के सामने नहीं झुके थे।

इन संगठनों के लोग हुए शामिल

प्रदर्शन में श्रमिकों, छात्र, मजदूर किसान, एवं शिक्षाकर्मी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं, रसोईया, ट्रक परिवहन संघ, टीए छात्र, व्यापारी, ग्राम सचिव, पंच, सरपंच, रोजगार सहायक, कम्प्यूटर आपरेटर, कोटवार, पटेल, महिला कमांडो, भारत माता वाहिनी, निर्भया दल, भृत्य, 108 संजीवनी व महतारी चालक संघ के लोग शामिल हुए। इस दौरान आलोक माथुर, श्याम जायसवाल, गौरीशंकर सिंह, जुनैद भाई, मोबिन खान, चंद्रकांत मेश्राम, टिकेश साहू, पंकज धनकर,सफीक खान, सोनू रंधावा, बचित्तर सिंह, वीरेन्द्र तारम, मनमोहन मानिकपुरी, लक्ष्मी, कविता, चमेली, मनोज शाह, रामजी सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

लाल पानी प्रभावित लोगों को मुआवजा देने की मांग

छग माइन विर्कस यूनियन के स्थानीय दल्लीराजहरा अध्यक्ष अभय सिंह, भूपेन्द्र दिल्लीवार, तिलक मानकर, राजू विनायक, विशाल मोटवानी, संजय सिंह, हासिम कुरैशी, भूषण निर्मलकर ने कहा कि शिक्षाकर्मियों का स्कूली शिक्षा विभाग में संविलयन किया जाए, रसोईया व ग्राम पंचायत स्तर के भृत्य को समान काम समान वेतन देने, टीए प्रशिक्षित बेरोजगारों को तत्काल बीएसपी में स्थायी नौकरी देने, माइंस क्षेत्र के लाल पानी व लाल मिट्टी से प्रभावित किसानों को समुचित मुआवजा व रोजगार दी जाए, माइंस क्षेत्र में कार्यरत ठेका श्रमिकों को डासा कैन्टीन सुविधा एवं क्वार्टर सहित बीएसपी अस्पताल में परिवार सहित उपचार प्रदान किया जाए। राजहरा माइंस के डीएव्ही विद्यालय में ठेका श्रमिकों के बच्चों को न्यूनतम शुल्क लिया जाए। वीरेंद्र कुर्रे ने कहा क बीएसपी प्रबंधन के आला अधिकारियों को रावघाट परियोजना के पूरा होने के लिए किए जाने वाले प्रयास पर अपनी झुठी पीठ थपथपा रहे हैं।

X
श्रमिकों के हितों की अनदेखी कर उनकी आवाज दबाने का प्रयास किया गया: कुर्रे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..