Hindi News »Chhatisgarh »Dallirajhara» जामकुंआ तालाब में गंदगी, सफाई पर ध्यान नहीं, निस्तारी की समस्या

जामकुंआ तालाब में गंदगी, सफाई पर ध्यान नहीं, निस्तारी की समस्या

तीन दशक पहले झरनों की नगरी कहलाने वाली लौह नगरी अब सिर्फ दल्लीराजहरा के नाम से जाना जाने लगा है। किसी समय में नगर के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 02, 2018, 02:30 AM IST

तीन दशक पहले झरनों की नगरी कहलाने वाली लौह नगरी अब सिर्फ दल्लीराजहरा के नाम से जाना जाने लगा है। किसी समय में नगर के लोगों की जरूरतों को पूरा करने वाले जामकुंआ अनदेखी और बदहाली पर आंसू बहा रहा हैं। यही गर्मी में पानी की जरूरतों को पूरा करता था। लेकिन अब इनकी ओर कोई ध्यान देने वाला नहीं है। नगर के पुराना बाजार, शिकारी बाबा, झरन मंदिर स्थित विभिन्न झरने अब माइंस के पहाड़ियों से बहकर आने वाली लाल मिट्टी से दबकर अपने अस्तित्व खो रहे हैं।

नगर के वार्ड 5 शिकारी बाबा तालाब से 50 मीटर की दूरी पर शीतला मंदिर के पास जामकुंआ तालाब गंदगी से पटता जा रहा है। तालाब के पटने की मुख्य वजह सफाई नहीं किया जाना है। वार्ड 2 निवासी जीधन निर्मलकर, वार्ड के 5 रंजन महार, जीवन साहू, शिव, जनार्दन, अलकहीन बाई, अगस्ता, गायत्री, देवली बाई एवं चंपा बाई ने बताया कि जामकुंआ तालाब प्राकृतिक जल स्रोत है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Dalli Rajhara News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: जामकुंआ तालाब में गंदगी, सफाई पर ध्यान नहीं, निस्तारी की समस्या
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Dallirajhara

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×