Hindi News »Chhatisgarh »Dhamtari» ग्रीन आर्मी टीम बिहार को करेगी जागरूक नगरी की शिवबती का पीएम करेंगे सम्मान

ग्रीन आर्मी टीम बिहार को करेगी जागरूक नगरी की शिवबती का पीएम करेंगे सम्मान

जिले के 100 ग्रीन आर्मी बिहार में जाकर लोगों को स्वच्छता, नियमित शौचालय उपयोग करने के लिए जागरूक करेंगे। धमतरी का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:30 AM IST

ग्रीन आर्मी टीम बिहार को करेगी जागरूक नगरी की शिवबती का पीएम करेंगे सम्मान
जिले के 100 ग्रीन आर्मी बिहार में जाकर लोगों को स्वच्छता, नियमित शौचालय उपयोग करने के लिए जागरूक करेंगे। धमतरी का ग्रामीण क्षेत्र प्रदेश में सबसे पहले ओडीएफ घोषित हुआ था। 4 माह पूर्व दिल्ली से पहुंची टीम ने ओडीएफ स्थायित्व के लिए हर महीने गांवों में होने वाले स्वच्छता मतदान की तारीफ भी की थी।

नगरी ब्लाक की ग्राम अमाली निवासी शिवबती जिले की पहली ग्रीन आर्मी है, जिसने खुले में शौच करने वाले 5 ग्रामीणों को पकड़कर 5-5सौ रुपए दंड वसूली थी। पंचायत द्वारा शिवबती को इस मोटीवेशन कार्य के लिए 2-2सौ रुपए प्रोत्साहन राशि दी गई। इस उल्लेखनीय पहल के कारण शिवबती का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिहार के चम्पारण में 10 अप्रैल को सम्मान करेंगे। शिवबती पीएम से सम्मान पाने वाली जिले की दूसरी महिला बन जाएगी। इसके पूर्व स्वच्छता दूत कुंवर बाई का पीएम मोदी ने सम्मान किया था।

देश में बिहार ओडीएफ मिशन में सबसे पीछे है, इसलिए यहां 3 से 10 अप्रैल तक सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह कार्यक्रम के तहत सरकार स्वच्छ बिहार अभियान शुरू कर रहा है। इस अभियान के तहत 1.2 करोड़ ग्रामीण परिवारों को शौचालय उपलब्ध कराकर 2 अक्टूबर 2019 तक खुले में शौचमुक्त बनाने का लक्ष्य रखा गया है। इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में जिले की ग्रीन आर्मी टीम भी सहयोग करने बिहार के लिए रवाना हुई है।

शिवबती

शिवबती जिले की पहली ग्रीन आर्मी है, जिसने खुले में शौच करने वालों से जुर्माना वसूला था

बिहार में दूसरा सत्याग्रह

चम्पारण 1917 में अंग्रेज सरकार एवं स्थानीय जमीदारों द्वारा शोषित भूमिहीन मजदूरों एवं गरीब किसानों के हित में सत्याग्रह की शुरूआत हुई थी, जिसे चम्पारण सत्याग्रह के नाम से जाना जाता है। यह सत्याग्रह महात्मा गांधी के नेतृत्व में हुआ था। 100 साल बाद 2017-18 को चम्पारण सत्याग्रह को शताब्दी वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है और इस बार इसे स्वच्छाग्रह का नाम दिया गया है।

परिवर्तन का करेंगे काम

देश के विभिन्न राज्यों से आए ग्रीन आर्मी के लोग बिहार में ग्राम पंचायतों एवं स्थानीय स्वच्छाग्रहियों के साथ मिलकर अभियान चलाएंगे। ओडीएफ स्थायित्व बनाए रखने समुदाय आधारित स्वच्छता रणनीति बताएंगे। साथ ही शौचालय की उपयोगिता पर सामूहिक व्यवहार परिवर्तन का कार्य भी करेंगे। इसके अलावा खुले में शौच करना कितना घातक है, इसकी भी जानकारी देंगे।

बिहार में ग्रीन आर्मी जुटी

बिहार ओडीएफ मिशन में देशभर में पीछे है। खुले में शौच यहां अभी भी जारी है। ग्रामीण क्षेत्रों में जिनके घर शौचालय बने, वे भी नियमित उपयोग नहीं कर पा रहे, इसलिए सरकार ने बिहार के चम्पारण सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह का आयोजन 3 से 10 अप्रैल तक किया है। यहां के लोगों को जागरूक करने देशभर के ग्रीन आर्मी को बुलाया जा रहा है, जो 25-25 का ग्रुप बनाकर हर पंचायत में पहुंचेगी।

बच्चों, बड़ों के साथ बैठक

बिहार के हर गांव में ग्रीन आर्मी की टीम पहुंचेगी। बच्चों, बड़ों के साथ बैठक कर स्वच्छता के मुद्दे पर चर्चा होगी। खुले में शौच की ओर अग्रसर गांवों में रोज सुबह प्रभातफेरी निकलेगी और रात्रि में चौपाल का आयोजन होगा। सफाई, शौचालयों का नियमित उपयोग आदि पर रोज चर्चा होगी। ओडीएफ गांवों में ग्राम गौरव यात्रा भी निकाली जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhamtari

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×