Hindi News »Chhatisgarh »Dhamtari» गर्मी में पक्षियों को पानी पिलाने युवा घर-घर जाकर बांट रहे हैं सकोरे

गर्मी में पक्षियों को पानी पिलाने युवा घर-घर जाकर बांट रहे हैं सकोरे

शहर में युवाओं की टीम पक्षियों के संरक्षण के लिए पक्षी बचाओ अभियान के तहत घर-घर पहुंच रही है। गर्मी शुरू होते ही 1...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:30 AM IST

गर्मी में पक्षियों को पानी पिलाने युवा घर-घर जाकर बांट रहे हैं सकोरे
शहर में युवाओं की टीम पक्षियों के संरक्षण के लिए पक्षी बचाओ अभियान के तहत घर-घर पहुंच रही है। गर्मी शुरू होते ही 1 मार्च से निगम क्षेत्र में अभियान शुरू हो गया है। पोस्टऑफिस, सोरिद, नयापारा वार्ड के बाद रविवार को युवाओं की टीम मराठापारा पहुंची और घर-घर जाकर सकाेरा वितरण किया।

युवाओं ने पक्षियों के लिए सकोरे में पानी डालकर छतों में रखने की अपील की। साथ ही सालभर नियमित चिड़ियों के लिए छतों में पानी रखने का आग्रह भी किया, ताकि पानी की कमी से बेजुबानों की जान न जाए।

मराठापारा के पार्षद दुष्यंत घोरपड़े ने अपने कुछ मित्रों के साथ 2006 में पक्षी बचाओ अभियान शुरू किया। धीरे-धीरे लोग जुड़ते गए और अब युवाओं के साथ-साथ लायनेस क्लब सहित कुछ सामाजिक संगठनों के लगभग 100 लोग इस अभियान में जुड़ गए हैं। प्रत्येक रविवार को तय वार्ड में जाकर लोगों से पक्षियों के लिए छतों में पानी रखने की अपील कर रहे हैं। रविवार को लायनेस क्लब की ऊषा गुप्ता, जानकी गुप्ता, संतोष मिन्नी, चंद्रिका साहू, डॉ. राकेश सोनी, नीलेश पवार, गुड्‌डा रजक, ताकेश गोस्वामी, चंद्रकांत, रवि बग्गा आदि पक्षी बचाओ अभियान में शामिल हुए।

गौरिल्ला चिड़िया की संख्या घटी : दुष्यंत ने बताया कि पहले घर-घर गौरिल्ला चिड़िया की चहचहाहट सुनाई पड़ती थी। अक्सर गर्मी में इन चिड़ियों की संख्या बढ़ जाती थी। पिछले 10-12 वर्षों से इनकी संख्या में कमी आई है। इसके अलावा सलई सहित अन्य चिड़ियों की संख्या भी घटी है। ज्यादातर गर्मी में इन चिड़ियों की मौत होती है।

लायनेस क्लब ने युवाओं का सम्मान किया : पक्षी बचाओ अभियान में 18 से 35 वर्ष तक के युवा जुड़े हैं। इनके मानवीय कार्य से प्रभावित होकर रविवार को लायनेस क्लब के सदस्यों ने दिग्विजय सिंह कृदत्त के निवास स्थान पर अभियान से जुड़े सदस्यों का सम्मान किया। सेवा कार्य के लिए उन्हें संस्था की ओर से प्रशस्ति पत्र भी दिया गया।

चौथे सप्ताह मराठापारा में युवाओं ने पक्षियों के लिए घर-घर जाकर सकोरे बांटे।

मरी चिड़िया देख पक्षी बचाओ अभियान शुरू किया

दुष्यंत ने बताया कि रोज सुबह कोई न कोई चिड़िया घर में पंखे से टकराकर या सड़कों में मृत मिलते थे। गर्मी के दिनों में यह संख्या और बढ़ जाती थी, तब इनके मरने का कारण ढूंढा। पता चला कि पानी की तलाश में चिड़िया घरों के अंदर पहुंचते हैं। तेज गर्मी में कंठ सूखने पर छतों में भी इन्हें पानी नहीं मिलता। इसके बाद से फिर चिड़ियों को बचाने छतों व आंगन में सकाेरा में पानी रखने की अपील शुरू की। लोग भी इस पक्षी बचाओ अभियान से जुड़े और आगे आए। अधिकांश तो अब वर्षभर अपने छतों में मिट्‌टी के बर्तन या अन्य साधनों से चिड़ियों को पानी दे रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhamtari

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×