सरकार बदली तो श्रम की दो, महिला बाल विकास विभाग की 1 योजना बंद

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:40 AM IST

Dhamtari News - प्रदेश में 15 साल बाद सरकार बदली। इसका असर सरकारी योजनाओं पर पड़ रहा है। कुछ योजनाएं बंद कर दी गई, वहीं कुछ योजनाओं का...

Dhamtari News - chhattisgarh news 1 scheme of women39s welfare department closed two of labor if government changes
प्रदेश में 15 साल बाद सरकार बदली। इसका असर सरकारी योजनाओं पर पड़ रहा है। कुछ योजनाएं बंद कर दी गई, वहीं कुछ योजनाओं का नाम बदल दिया गया है। श्रम विभाग में पूर्व में चल रही दो योजनाएं बंद हो गई है। इधर महिला बाल विकास विभाग की एक योजना बंद कर दी गई।

श्रम विभाग में पहले मुख्यमंत्री मिनीमाता कन्या विवाह योजना चल रहा था। इसमें श्रमिक वर्ग के वर-वधु को शादी के बाद 20 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि दी जाती थी। इसी तरह असंगठित कर्मकार विवाह योजना में निर्माणी एवं असंगठित मजदूर वर्ग के वर-वधु को 15 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि दी जाती थी। श्रम विभाग की ये दोनों योजनाएं बंद हो गई है। सरकार के इस फैसले से सैकड़ों हितग्राहियों काे झटका लगा है। कुछ ने पूर्व में इस योजना का लाभ लेने आवेदन भी जमा करा दिया था, जो अब रिजेक्ट हो जाएंगे।

इधर महिला बाल विकास विभाग की किशोरी शक्ति आहार योजना (14 से 18 वर्ष) को बंद कर दिया गया है। यह योजना किशोरी बालिकाओं के लिए महत्वपूर्ण योजना मानी जा रही थी। सरकार ने किशोरी शक्ति आहार योजना (11 से 14 वर्ष) को चालू रखा है, लेकिन इसका लाभ सिर्फ शाला त्यागी बच्चों को दिया जाता है। ऐसे बच्चों की संख्या काफी कम होती है।

इनके बदल गए नाम: इधर महिला बाल विकास विभाग में संचालित नवाजतन योजना का नाम बदलकर पोषण अभियान कर दिया गया है। साथ ही समाज कल्याण विभाग में संचालित मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना का नाम अब तीरथ बरत योजना कर दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि इन योजनाओं के सिर्फ नाम बदले हैं, मापदंड पुराने ही रहेंगे।

दो योजनाएं बंद हुई है: श्रम पदाधिकारी अजय हेमंत देशमुख ने बताया कि श्रम विभाग में चल रही मुख्यमंत्री मिनीमाता कन्या विवाह योजना और असंगठित कर्मकार विवाह योजना शासन स्तर से बंद हो गई है।

किशोरी शक्ति योजना सरकार बदलने से पहले बंद हो गई

किशोरी शक्ति आहार योजना ही बंद

महिला बाल विकास विभाग कार्यक्रम अधिकारी रेणु प्रकाश ने कहा कि किशोरी शक्ति आहार योजना 14 से 18 साल बंद हुई है। किशोरी शक्ति (महिला समूह पोषण आहार निर्माण) योजना पहले ही बंद हो गई थी। वहीं नवाजतन का नाम पोषण अभियान हो गया है।

इधर कर्ज में डूबी महिलाएं

कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के पहले ही किशोरी शक्ति योजना बंद हो गई। योजना के तहत महिला समूह आंगनबाड़ी केंद्रों में हर सप्ताह रेडी टू इट सहित अन्य पूरक आहार सप्लाई करती थी। भुगतान महिला बाल विकास विभाग द्वारा होता था। जिले में इस योजना पर 41 महिला समूह काम कर रही थी। इन समूहों पर 60 लाख का कर्ज है। अब तक इनकों भुगतान नहीं हुआ है। समूह की महिला नम्रता सिन्हा, जागृति देवांगन, सुलोचना, संतोषी ने कहा कि उन्होंने कर्ज लेकर रेडी टू ईट व अन्य पोषण आहार निर्माण सामग्री खरीदी थी। भुगतान नहीं हो पाया है। इधर अब यह योजना ही बंद हो गई है। ब्याज समेत सरकार को भुगतान करना चाहिए। विभाग के अधिकारी फंड नहीं आने की जानकारी दे रहे हैं।

X
Dhamtari News - chhattisgarh news 1 scheme of women39s welfare department closed two of labor if government changes
COMMENT