विद्यार्थियों को नुकसान से बचाने निजी विवि विनियामक आयोग ने जारी की गाइड लाइन

Dhamtari News - धमतरी | छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग ने निजी विश्वविद्यालयों में दाखिले से पहले पालकों और...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 06:51 AM IST
Dhamtari News - chhattisgarh news guidelines for the release of private university regulatory commission
धमतरी | छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग ने निजी विश्वविद्यालयों में दाखिले से पहले पालकों और विद्यार्थियों के लिए पांच बिंदुओं के दिशा निर्देश जारी किए हैं ताकि उन्हें नुकसान न उठाना पड़े। कई निजी विश्वविद्यालय विद्यार्थियों और पालकों को गुमराह कर ऐसे कोर्स में दाखिला दे देते हैं जिनकी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा मान्यता नहीं दी गई है। बाद में एेसी डिग्रियों को फर्जी भी घोषित कर दी जाती है। कई निजी विश्वविद्यालय कई राज्यों में स्टडी सेंटर खोल देते हैं। यह भी हो सकता है कि संबंधित संस्थान को ही मान्यता न होे।

ये हैं वे पांच बिंदु जिन पर जांच जरूरी

1. विश्वविद्यालय के परिनियम और अध्यादेश का प्रकाशन राज्य शासन द्वारा राजपत्र में प्रकाशित किया गया हो। इसके प्रकाशन के बाद ही विश्वविद्यालय विद्यार्थियों को प्रवेश दे सकता है।

2. विश्वविद्यालय राज्य शासन द्वारा जारी छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय (स्थापना एवं संचालन) अधिनियम 2005 के तहत अधिसूचित हो।

3. पाठ्यक्रम या डिग्री जिसमें प्रवेश लिया जा रहा हो, यूजीसी द्वारा अनुमोदित हो और राजपत्र में प्रकाशित अध्यादेश में इस पाठ्यक्रम से संबंधित अध्यादेश भी शामिल हो।

4. निजी विश्वविद्यालय एकात्म स्वरूप हैं इसलिए इन्हें किसी अन्य महाविद्यालय को संबद्ध करने की अनुमति नहीं है।

5. एमफिल, पीएचडी के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग(एमफिल पीएचडी उपाधि के लिए न्यूनतम मानक एवं प्रक्रिया)विनियम 2016 प्रभावशील हो। विद्यार्थी जिस विषय में एमफिल या पीएचडी करना चाहते हैं, उस विषय में मानदंडों के अनुरूप योग्यता प्राप्त नियमित शोध निर्देशक पदस्थ हों।

X
Dhamtari News - chhattisgarh news guidelines for the release of private university regulatory commission
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना