विज्ञापन

काॅलेज की परीक्षा में संशोधन, तारीख 20 दिन बढ़ी, रिजल्ट में भी होगी देर

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 02:16 AM IST

Dhamtari News - आचार संहिता लगते ही स्कूल के साथ काॅलेज की परीक्षा तारीखों में संशोधन हुआ है। पं रविवि ने नई समय सारिणी जारी की है।...

Dhamtari News - chhattisgarh news revision of college exams 20 days increase results will be delayed too
  • comment
आचार संहिता लगते ही स्कूल के साथ काॅलेज की परीक्षा तारीखों में संशोधन हुआ है। पं रविवि ने नई समय सारिणी जारी की है। बीसीएस पीजी काॅलेज में भी सूचना पटल पर संशोधित समय सारिणी लगाई है। काॅलेज परीक्षार्थियों की परीक्षा 20 से 25 दिन तक आगे चली गई है। रिजल्ट भी देरी से आएगा।

ऐसे में पीजी के छात्र जो बाहर जाकर आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं, उन छात्राें को परेशानी हो सकती है। बीसीएस पीजी काॅलेज में 9 मई तक परीक्षा समाप्त होनी थी, लेकिन लोकसभा चुनाव के कारण 17 मई को बीए प्रथम वर्ष की परीक्षा समाप्त होगी।

16 से 25 अप्रैल तक की परीक्षा में बदलाव : 16 से 25 अप्रैल तक आयोजित होने वाली परीक्षा तारीखों में बदलाव किया है। 26 अप्रैल के बाद से 9 मई तक की परीक्षाएं पहले की तरह होंगी। विवि की वेबसाइट पर भी नई समय सारिणी जारी कर दी गई है।

स्नातक, स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष के छात्रों पर पड़ेगा असर : परीक्षा तारीखों में संशोधन से स्नातक व स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष के छात्रों पर ज्यादा प्रभाव पड़ेगा। कई संकाय ऐसे हैं, जो जिले के कालेजों में नहीं है। इस कारण छात्र धमतरी जिले से बाहर जाकर सरकारी व प्राईवेट कॉलेजों में पढ़ाई करते हैं। उन्हें दूसरे कालेजों में एडमिशन लेने के लिए मशक्कत करनी पड़ेगी। स्नातक प्रथम व द्वितीय वर्ष के छात्रों पर इसका ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा। जो छात्र पूरे विषयों में पास हो जाते हैं, उन्हें परेशानी नहीं होगी, लेकिन जिन्हें सप्लीमेंट्री आती है वे परेशान हो सकते हैं। दिसंबर-जनवरी में वार्षिक परीक्षा के लिए फाॅर्म भरना भी शुरू हो जाएगा। जो छात्र फेल होते हैं या सप्लीमेंट्री उन्हें रिटोटलिंग, फिर से जांच के आवेदन करना पड़ता है। इसके भी रिजल्ट आने में देरी होगी।

पीजी करने वाले छात्रों को होगी परेशानी : प्राचार्य डॉ. सीएस चौबे ने कहा कि चुनाव के चलते समय सारिणी में बदलाव विवि से किया गया है। नई समय सारिणी सूचना पटल पर लगा दी गई है। लोकसभा चुनाव के कारण छात्रों के रिजल्ट आने में भी देरी होगी। चुनाव का ज्यादा असर स्नातक अंतिम वर्ष व पीजी के छात्रों को होगा, क्योंकि कोर्स ऐसे हैं, जो यहां जिले के कालेजों में नहीं है। छात्रों को बाहर जाकर पढ़ाई करनी पड़ती है।

संशोधित समय सारिणी को सूचना पटल पर देखते काॅलेज परीक्षार्थी।

एमसीए करने जाना पड़ता है जिले से बाहर

बीसीए अंतिम वर्ष के छात्र रितेश साहू, भूपेन्द्र निर्मलकर ने कहा कि 18 अप्रैल को चुनाव के दिन ही अंतिम ब्रिज कोर्स का पेपर था, जो अब 3 मई को होगा। बीसीए के बाद एमसीए करने के लिए रायपुर या दुर्ग-भिलाई जाना होगा। प्री-एमसीए की परीक्षा भी दिलानी है। रिजल्ट में लेट होने के कारण एडमिशन में परेशानी आएगी। बीएससी के छात्रों को एमएससी करने के लिए भी जिले से बाहर जाना पड़ता है।

परीक्षा संचालन में बाहर के शिक्षकों का सहारा

काॅलेज के प्रोफेसरों की भी चुनाव में ड्यूटी लगाई गई है। 5 प्रोफेसरों को मास्टर ट्रेनर बनाया गया है, तो 5-6 प्रोफेसर पीठासीन अधिकारी बनाए गए हैं। सभी प्रोफेसर चुनावी प्रशिक्षण में चले गए हैं। इस काॅलेज की परीक्षा भी संचालित हो रही है। ऐसे में काॅलेज में पर्याप्त शिक्षक नहीं होने के चलते बाहर के शिक्षकों से सेवाएं ली जा रही हैं।

X
Dhamtari News - chhattisgarh news revision of college exams 20 days increase results will be delayed too
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन